विवादों का रोहतक रोड:मिट्टी भरत से पहले नहीं कराई थी लीकेज की जांच, बनने के कुछ दिन बाद ही धंस गई थी सड़क

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जींद. रोहतक रोड पर लोगों से बातचीत करते एडीसी। - Dainik Bhaskar
जींद. रोहतक रोड पर लोगों से बातचीत करते एडीसी।
  • एडीसी ने मौके पर जाकर की जांच, अधिकारियों के बयान से सामने आई लापरवाही

बरसात के बाद धंसे रोहतक रोड के मामले में गुरुवार को एडीसी साहिल गुप्ता एक बार फिर रोहतक रोड पर जांच के लिए पहुंचे। यहां पहुंचकर उन्होंने लोगों के बयान भी लिखित में लिए। एडीसी ने नगर परिषद, जनस्वास्थ्य विभाग, पीडब्ल्यूडी बीएंडआर के अधिकारियों के साथ बैठक भी की। इस दौरान एनआईटी के विशेषज्ञ भी जांच के दौरान मौजूद रहे। बैठक के दौरान अधिकारियों ने नगर परिषद व पीडब्ल्यूडी बीएंडआर से सड़क निर्माण के दौरान पाइप लाइन की टेस्टिंग, मिट्टी भरत और सड़क निर्माण से पूर्व टेस्टिंग के बारे में सवाल पूछा।

इस पर नगर परिषद के अधिकारियों ने बताया कि मिट्टी भरत से पहले पाइप लाइन में पानी डालकर कोई टेस्टिंग नहीं की गई। मिट्टी भरत के बाद भी कोई टेस्टिंग नहीं की गई। पीडब्ल्यूडी बीएंडआर के कर्मचारियों ने बताया कि उन द्वारा इस सड़क निर्माण से पहले इसकी तीन बार टेस्टिंग कराई है। थर्ड पार्टी की भी जांच कराई गई है। बताया जा रहा है कि बैठक में सामने आया कि सड़क धंसने का मुख्य कारण पानी की लीकेज रही है। इसमें अमरूत योजना और जन स्वास्थ्य विभाग दोनों की लाइनें शामिल रही हैं। बैठक के दौरान जनस्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि उन द्वारा सीवरेज लाइन बिछाई गई थी, लेकिन बाद में अमरूत योजना की लाइन डालने के लिए नगर परिषद ने उसे उखाड़ दिया था। अमरूत की लाइन डलने के बाद ठेकेदार ने खुद ही सीवरेज लाइन दबाई थी, जिसमें जॉइंट व अन्य लीकेज छोड़ दिए गए और सड़क धंस गई। फिलहाल इस मामले में एडीसी ने संबंधित विभागों व रोहतक रोड के लोगों के बयान ले लिए हैं। अब फाइनल रिपोर्ट नहीं सौंपी गई है।

जुलाई में हुई तेज बरसात के बाद रोहतक रोड व जेडी-7 पर सड़क धंस गई थी। इससे आवागमन बंद हो गया था। इसकी जांच विधानसभा सब्जेक्ट कमेटी के साथ-साथ नगर परिषद, जनस्वास्थ्य विभाग व पीडब्ल्यूडी बीएंडआर की संयुक्त कमेटी ने भी की, लेकिन आज तक जिम्मेदारी तय नहीं हुई। इसके बाद डीसी ने जांच एडीसी को सौंपी थी।

लोग बोले- 3 साल से उनकी जिंदगी नरक बनी हुई
गुरुवार को जैसे ही एडीसी रोहतक रोड पर पहुंचे तो लोग उनसे मिलने पहुंचे। लोगों ने जांच रिपोर्ट जल्द से जल्द सौंपने, सड़क को जल्द से जल्द नए सिरे से बनाने और आरोपी अफसरों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की। इस दौरान रोहतक रोड के लोगों ने एडीसी के सामने सड़क का खूब रोना रोया। फर्नीचर एसोसिएशन के प्रधान राकेश सिंघल, भोलू राम, रमेश, रणधीर, सुमित, तिलक, महेन्द्र, बिटटू, प्रवीण गोयल, ओम प्रकाश, राजकुमार गोयल ने बताया कि पिछले लंबे समय से जांच पर जांच हो रही है।

इसके अलावा कुछ नहीं हो रहा। अफसर गाडिय़ों के काफिले के साथ आते हैं और दौरा करके चले जाते हैं। यह सड़क वैसे ही तीन साल से बदहाल थी। सड़क धंसी को करीबन तीन महीने हो गए। आज तक न तो सड़क ठीक हुई और न ही कोई जांच रिपोर्ट आई और न ही अफसरों के खिलाफ आजतक कोई कार्रवाई हुई। यदि जल्द जांच कर सड़क नहीं बनी तो फिर आंदोलन किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...