पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पोकरीखेड़ी हत्याकांड की जांच करने पहुंचे एडीजीपी:9 साल पहले हुआ था मां-बेटे का कत्ल, हाईकोर्ट के निर्देश पर एसआईटी कर रही जांच

जींद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जींद. पोकरीखेड़ी गांव में पहुंच रोहतक रेंज के एडीजीपी। - Dainik Bhaskar
जींद. पोकरीखेड़ी गांव में पहुंच रोहतक रेंज के एडीजीपी।

पोकरी खेड़ी में अगस्त 2012 को हुए मां-बेटा हत्याकांड की गुत्थी 9 साल बाद भी नहीं सुलझ पाई है। हाईकोर्ट के आदेश पर शुक्रवार को रोहतक रेंज में तैनात एडीजीपी संदीप खिरवाल गांव में पहुंचे और घटनास्थल का जायजा लिया। करीब एक घंटे तक एडीजीपी गांव में रहे और महिला सुमित्रा के ससुर व आसपास के लोगों से घटना संबंधित जानकारी ली। यहां बता दें कि 20 अगस्त 2012 को पोकरीखेड़ी गांव में फौजी केवल सिंह की पत्नी सुमित्रा व 15 वर्षीय बेटे विजय का रात को मर्डर कर दिया गया था।

मर्डर किसने किया और इसके पीछे किसका हाथ है, इसका 9 साल बाद भी पुलिस कोई सुराग नहीं लगा पाई। बाद में सीआरपीएफ में तैनात उसके पति केवल सिंह ने सीबीआई की जांच की मांग को लेकर 2016 में हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। सितंबर 2019 में हाईकोर्ट ने इस मामले में एडीजीपी संदीप खिरवाल के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया और तीन माह में जांच करने के निर्देश दिए। एसआईटी ने बाद में हत्या का सुराग देने वाले को एक लाख रुपए का इनाम देने की भी घोषणा की, लेकिन अब तक इस मामले में कोई सुराग नहीं लग पाया।

बाद में लॉकडाउन लगने के चलते एसआईटी जांच नहीं कर पाई और हाईकोर्ट में भी इसकी सुनवाई टलती रही। अब एसआईटी को 30 जुलाई को हाईकोर्ट में होने वाली सुनवाई में इसकी रिपोर्ट प्रस्तुत करनी है, इसलिए एडीजीपी संदीप खिरवाल ने अपनी टीम के साथ गांव पोकरीखेड़ी में पहुंचकर घटनास्थल का जायजा लिया।

एएसपी नितीश अग्रवाल भी एसआईटी में शामिल
एसपी वसीम अकरम ने बताया कि डबल मर्डर के मामले में गठित की गई एसआईटी प्रमुख एडीजीपी रोहतक रेंज संदीप खिरवाल ने पोकरीखेड़ी पहुंच गवाहों से बातचीत की है व वारदात स्थल को जांचा है। इस एसआईटी में सफीदों के एएसपी नितीश अग्रवाल को भी शामिल किया गया है। पुलिस इस दोहरे हत्याकांड को सुलझाने के लिए लगातार प्रयास कर रही है।

खबरें और भी हैं...