पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

वृद्धावस्था पेंशन में फर्जीवाड़ा मामला:कोर्ट में अब समाज कल्याण विभाग काे देनी हाेगी रिपाेर्ट, वृद्धावस्था पेंशन में कैसा हुआ फर्जीवाड़ा

जींद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिले में वृद्धावस्था पेंशन में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद बुधवार को हाईकोर्ट ने दोनों पक्षों को तलब किया था। इसमें कोर्ट ने समाज कल्याण विभाग को 28 दिन का समय देते हुए पूरे मामले की जानकारी देने के लिए कहा है। हाईकोर्ट में शिकायतकर्ता दलबीर सिंह रजाना ने याचिका दायर की थी कि रजना कलां गांव में फर्जी तरीके से लोगों की वृद्धावस्था पेंशन बनाई जा रही है।

इसके बाद शिकायतकर्ता की कोई भी सुनवाई नहीं होने पर हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया जिसके बाद कोर्ट ने बुधवार को दोनों पक्ष तलब किए थे। इस दौरान विभाग ने मामले को लेकर कुछ समय मांगा। जिस पर हाईकोर्ट ने 28 दिन के भीतर पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है। इसमें कहा गया कि इतने बड़े स्तर पर वृद्धावस्था पेंशन कैसे बनी, क्यों विभाग को मामले की भनक नहीं लगी और अगर कहीं से शिकायत आई तो कार्रवाई में देरी क्यों हुई। इस तरह से पूरे मामले की रिपोर्ट देनी होगी।

शिकायतकर्ता दलबीर सिंह रजना ने बताया कि गांव वृद्धावस्था पेंशन मामले में बड़े स्तर पर गोलमाल हुआ है और इस मामले में बुधवार को हाईकोर्ट ने विभाग 28 दिन का समय दिया है और पूरे मामले की जानकारी पेश करने के आदेश दिए हैं। पहले शिकायत करने पर कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। अब पेंशन काटी जा रही है और इसमें अभी और भी राज खुलेंगे। फर्जी पेंशन लेने वालों में 74 व्यक्ति व महिलाएं शामिल हैं।

खबरें और भी हैं...