पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Jind
  • One Year Sonakshi, 13 month old Leia, 3 year old Tarissa And 4 year old Khushi Beat Corona While Laughing, The Family Also Became Healthy

लिटिल कोरोना योद्धा:एक साल सोनाक्षी, 13 माह की लीया, 3 साल की तरिसा और 4 साल की खुशी ने हंसते-खेलते कोरोना को हराया, परिजन भी हुए स्वस्थ्य

जींदएक महीने पहलेलेखक: शिवकुमार गौड़
  • कॉपी लिंक
समीक्षा (6 वर्षीय) सोनाक्षी (1 वर्ष) - Dainik Bhaskar
समीक्षा (6 वर्षीय) सोनाक्षी (1 वर्ष)

इन नन्हीं बेटियों ने हंसते-खेलते कोरोना को हरा दिया। परिजनों का हौसला बढ़ाए रखा तो वे भी स्वस्थ हो गए। इन बेटियों के पॉजीटिव होने के बाद परिजनों की चिंता बढ़ गई थी, लेकिन लिटिल कोरोना यौद्धाओं ने होम क्वारेंटाइन कमरे में किलकारियां गूंजाए रखी तो परिवार की खुशियां फिर से लौट आई। पढि़ए ऐसे ही लिटिल कोरोना वॉरियर्स की कहानी, उनके परिजनों की जुबानी

दो बहनें: 23 को पॉजिटिव आई, अब पूरी तरह स्वस्थ

63 वर्षीय पिता को बुखार की शिकायत थी। 23 अप्रैल को उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजीटिव आई। परिवार के सभी सदस्यों की जांच कराई तो मां संतरो देवी, पत्नी सुमन, मेरी दोनों बेटियां 1 साल की सोनाक्षी, 6 वर्षीय समीक्षा व भाई जसबीर की पत्नी निर्मल, 17 वर्षीय बेटी किरण व 15 वर्षीय बेटा अंकित भी पॉजीटिव आए। सभी को होम क्वारेंटाइन किया तो इन बच्चियों ने सबका हौसला बढ़ाए रखा। अब सभी स्वस्थ हैं। -लेक्चरर संदीप कुमार, दोनों बच्चियों के पिता, गांव खरकभूरा

22 अप्रैल को पॉजिटिव आई, हंसती-खेलती रही और जीती

19 अप्रैल को ससुराल भागल से मायका नरवाना में आई थी। घर में मेरे भाई विष्णु को बुखार की शिकायत हुई तो 13 माह की बेटी लीया बीमार पड़ गई। 22 अप्रैल को रिपोर्ट पॉजीटिव आई। मुझे बेटी की चिंता हुई और लीया की नानी निर्मला भी डर गई, लेकिन लीया बुखार उतरते ही पहले की तरह खेलती-हंसती तो कुछ मन खुश होता। धीरे-धीरे भाई व बेटी का स्वास्थ्य ठीक हुआ। अब लीया स्वस्थ है, पूरा दिन परिवार के बीच हंसती-खेलती रहती है।
-सुमन देवी, लीया की मां।

दिनभर मम्मी का साथ खेलती थी, अब पूरी तरह स्वस्थ्य है

करीब 20 दिन पहले मेरी 3 वर्षीय बेटी तरिसा की रिपोर्ट कोरोना पॉजीटिव आई। उन्हें 2 दिन से बुखार था तो 15 अप्रैल को जांच में कारेाना पॉजीटिव मिली, जबकि मम्मी की रिपोर्ट निगेटिव मिली। तरिसा के 10 वर्षीय भाई लविश को दूर रखा व उसकी देखरेख उसकी मम्मी ने की। तरिसा अपनी मम्मी के साथ दिनभर खेलती रहती। दूर से परिजन दिखते तो खिलखिलाती। अब वह पूरी तरह से स्वस्थ हुई तो परिवार सदस्यों ने राहत की सांस ली।
-तरिसा के पिता तरूण, जुलाना निवासी

पूरा परिवार पॉजिटिव हुआ, पर खुशी की मुस्कान देती रही खुशी

मेरी दादी की 20 दिन पहले मौत हुई थी। मैं, मेरी मां बाली देवी व मेरी बेटी खुशी बीमार हो गई थी। सभी पॉजीटिव पाए गए। घर पर रहे व खुशी को भी 2 दिन बाद में बुखार नहीं आया। खुशी की देखभाल मम्मी सीमा ने की व ढाई साल की छोटी बेटी को दूर रखा। खुशी ठीक दिखी तो पूरे परिवार की खुशी लौट आई। अब पूरा परिवार स्वस्थ है। डाक्टरों ने कहा कि अच्छा खानपान रखें और अब भी नियमों की पालना अवश्य करें। पूरा परिवार खुशी को खिलाता है।
-खुशी का पिता मनु बरान, वासी उझाना।

एक्सपर्ट व्यू

लक्षण दिखाई दें तो जांच जरूर कराएं

​​​​​​​कोरोना के लक्षण दिखाई देते ही जांच कराएं तो काफी हद तक मरीज जल्द स्वस्थ हो जाता है। नन्हें बच्चों व बुजुर्गों ने कोरोना को मात दी है। छोटे बच्चे जल्द रिकवर कर रहे हैं। अगर मरीज हौसला रखते हैं तो वह घर पर ठीक हो जाते हैं।
-डाॅ. पालेराम कटारिया, नोडल आफिसर, कोविड-19

खबरें और भी हैं...