एक समस्या यह भी:सात छात्राओं व स्टाफ, प्रोफेसर सहित 63 मिले पॉजिटिव, 93 मरीज हुए ठीक

जींद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आरटीपीसीआर लैब में एक ही शिफ्ट में हो रहा काम

जिले में कोरोना के केस लगातार बढ़ रहे हैं। सोमवार को चौधरी रणबीर सिंह विश्वविद्यालय के प्रोफेसर, राजकीय महिला कॉलेज व राजकीय कॉलेज की 7 छात्राओं और स्टाफ सहित 63 लोग पॉजिटिव आए हैं। वहीं कोरोना के बढ़ते केसों के चलते सरकार ने रात 9 बजे से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। केवल जरूरी लोगों को ही इसमें छूट दी गई है।

वहीं उचाना की आरटीपीसीआर लैब अब भी एक ही शिफ्ट में चलाई जा रही है, जिसके चलते सभी सैंपलों की जांच नहीं हो पा रही है। लैब के एक शिफ्ट में चलने के कारण सैंपल लेने की गति भी कम हो गई है। सोमवार को केवल 448 लोगों के ही जिलेभर से सैंपल लिए जा सके। इसी प्रकार सिविल अस्पताल में 200 के लगभग लोगों के सैंपल लिए, जिसमें से लैब में केवल 150 ही भेजे गए।

वहीं जिले में अब एक्टिव मरीजों की संख्या 673 हो चुकी है। जिले में अब तक कोरोना से 6415 लोग संक्रमित हो चुके हैं। सोमवार को 93 मरीज कोरोना से ठीक भी हुए हैं। सोमवार को 1214 लोगों की रिपोर्ट आई, जिसमें 63 लोग पॉजिटिव मिले हैं। फिलहाल 918 लोगों के सैंपलों की रिपोर्ट आना बाकी है।

वहीं सिविल अस्पताल से भी लगभग 15 लोग आज डिस्चार्ज किए गए, जबकि 5 नए मरीज भी दाखिल हुए। अस्पताल के कोविड वार्ड में अब 40 मरीज दाखिल हैं। वहीं कोरोना के दौरान लगने वाले टीके की खेप भी अस्पताल को मिली। फिलहाल 30 टीके ही मिल सके हैं। इसमें से एक मरीज को 6 टीके लगते हैं।

व्यवस्था : अब सक्षम करेंगे ट्रैकिंग का काम

स्वास्थ्य विभाग के पास कर्मचारियों की कमी है। इसे दूर करने के लिए अब सक्षम युवा लगाए जाएंगे, जो घर-घर जाकर कोरोना पॉजिटिव आने वालों की ट्रैकिंग करेंगे और उसकी सूचना स्वास्थ्य विभाग को देंगे। इसके अलावा कुछ सक्षम कंप्यूटर ऑपरेटर के रूप में लगाए जाएंगे, जो वैक्सीनेशन का डाटा अपलोड करने का काम करेंगे।

खबरें और भी हैं...