पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Jind
  • The Family Members Sitting On A Dharna Regarding The Death, Compensation And Action Due To The Collision Of The Bike Of The Worker Holding The Cow

हादसा:गोवंश को पकड़ रहे कर्मी की बाइक की टक्कर से मौत, मुआवजे और कार्रवाई को लेकर धरने पर बैठे परिजन

जींद15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जींद. सिविल अस्पताल में धरने पर बैठे परिजन। - Dainik Bhaskar
जींद. सिविल अस्पताल में धरने पर बैठे परिजन।
  • घायल बाइक सवार के परिजनों ने कर्मियों से की हाथापाई, घायल को लेकर अस्पताल से भागे
  • मृतक कर्मचारी के परिवार को नौकरी और आर्थिक सहायता के रूप में 25 लाख रुपए की उठाई मांग

गोवंश को पकड़ने के लिए नगर परिषद द्वारा चलाए गए अभियान में शनिवार रात को ठेकेदार के कर्मचारी की बाइक की चपेट में आने से मौत हो गई, जबकि बाइक चालक गंभीर रूप से घायल हो गया। गोवंश को पकड़ रहे कर्मचारियों ने ही घायल को अस्पताल में दाखिल करवाया। हादसे का पता चलते ही बाइक सवार के परिजन सिविल अस्पताल पहुंच गए और ठेकेदार के कर्मचारियों के साथ हाथापाई करने लगे।

जैसे ही उनको पता चला कि इस हादसे में ठेकेदार के एक कर्मचारी की भी मौत हुई है। उसके बाद वह लोग घायल को लेकर अस्पताल से फरार हो गए। हादसे में मरने वाले कर्मचारी के परिवार को नौकरी, आर्थिक सहायता के रूप में 25 लाख रुपए और हाथापाई करने वाले लोगों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत कार्रवाई की मांग को लेकर लोगों ने सिविल अस्पताल में अस्पताल में धरना शुरू कर दिया। फिलहाल समाचार लिखे जाने तक धरना जारी था

राम काॅलोनी निवासी दीपक ने पुलिस में शिकायत दी है कि तिगड़ाना गांव निवासी उसका 30 वर्षीय जीजा सुनील 4-5 महीनों से जींद की राम काॅलोनी में रहता था। वह उनके साथ नगर परिषद जींद द्वारा बेसहारा पशुओं को पकड़कर नंदीशाला में छोड़ने का काम करता था। शनिवार रात को राम काॅलोनी के सुनील, उमेश, विक्की, सन्नी, राहुल गोहाना रोड स्थित शहीद स्मारक के सामने बेसहारा गोवंश को पकड़ रहे थे।

सुनील रोड के डिवाइडर के पास स्ट्रीट लाइट की रोशनी में आने-जाने वाले वाहनों को रोकने के लिए खड़ा था। करीब 9 बजकर 20 मिनट पर बस स्टैंड की तरफ से एक तेज रफ्तार बाइक आई और सुनील को अपनी चपेट में ले लिया। इससे दोनों गंभीर रूप से घायल हो गए, जिनको सिविल अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने सुनील को मृत घोषित कर दिया।

बाइक डिफेंस काॅलोनी का यश चला रहा था। घटना की सूचना पाकर यश के परिजन भी मौके पर पहुंच गए और उन्होंने ठेकेदार के कर्मचारियों के साथ हाथापाई शुरू कर दी। जब उन्हें पता चला कि हादसे में एक की मौत हो गई है तो वह घायल को लेकर फरार हो गए। रविवार को पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया, लेकिन परिजनों ने शव लेने से इनकार कर दिया और कार्रवाई की मांग की। परिजनों ने अस्पताल परिसर में ही धरना शुरू कर दिया।

विधायक मिड्ढा भी पहुंचे धरने पर, दिया आश्वासन
सिविल अस्पताल में धरना दे रहे अनुसूचित जाति के लोगों को समझाने के लिए स्थानीय विधायक डॉ. कृष्ण मिड्ढा भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने मृतक के परिजनों से बात की। मृतक के परिजनों ने विधायक के सामने स्थाई नौकरी, 25 लाख रुपए और मारपीट करने वालों के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत केस दर्ज करने की मांग की। इस पर विधायक ने उन्हें आश्वासन दिया कि उनके साथ पूरा न्याय होगा और इस मामले में प्रशासन से बातचीत करेंगे।

पुलिस ने हादसे को अंजाम देने के आरोपी डिफेंस काॅलोनी के यश के खिलाफ लापरवाही से वाहन चलाने के आरोप में केस दर्ज कर लिया है। -हरिओम, सिविल लाइन थाना प्रभारी, जींद

खबरें और भी हैं...