पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आखिर कौन है रामलीला कमेटी का प्रधान:सैनी रामलीला वेलफेयर सोसायटी पर दो लोग जता रहे प्रधानी पद पर दावा

जींद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जिला प्रशासन की तरफ से अब तक रामलीला के आयोजन को लेकर हरी झंडी नहीं दी है, लेकिन कई संस्थाएं 17 अक्टूबर से रामलीला कराने की तैयारी में जुट गई हैं। शहर में कई पुरानी रामलीलाएं चल रही हैं, जिनके आयोजन को लेकर अभी संशय बना हुआ है। इसमें से एक है सैनी रामलीला वेलफेयर सोसायटी जो हर साल सैनी रामलीला ग्राउंड में रामलीला का आयोजन करवाती है।

इस बार भी कराया जाना प्रस्तावित था, लेकिन कोरोना के चलते न तो अब प्रशासन और न ही सैनी रामलीला ग्राउंड का संचालन कर रही युवा सैनी सभा ने रामलीला करने की अनुमति दी है। सैनी रामलीला वेलफेयर सोसायटी में ही प्रधान को लेकर दो लोग अपनी प्रधानी का दावा जता रहे हैं। दोनों ही अपने आपको प्रधान कहते हैं। रामलीला के आयोजन को लेकर भी दोनों के तर्क अलग-अलग हैं। प्रधान पद को लेकर लोगों में भी भ्रांतियां बनी हुई है कि आखिर संचालन कौन करता है।

कागजों में मैं प्रधान, जिम्मेदारी राजेश को दी
मैं कई सालों से सोसायटी का प्रधान हूं। निजी कारणों की वजह से समय नहीं दे रहा था। इसलिए मैंने राजेश को प्रधान बनाया हुआ है, लेकिन कागजों में आज भी मैं ही प्रधान हूं। जहां तक रामलीला का सवाल है तो कोरोना के चलते प्रशासनिक अनुमति नहीं मिली है। इस बार रामलीला के आयोजन की उम्मीद भी कम है। राहुल सैनी, प्रधान सैनी रामलीला वेलफेयर सोसायटी

मैं हूं प्रधान, रामलीला का आयोजन मुश्किल : राजेश
मैं पिछले काफी समय से सैनी रामलीला वेलफेयर सोसायटी का प्रधान हूं। हर साल रामलीला का आयोजन सैनी रामलीला ग्राउंड में होता है। इस बार कोरोना के चलते आयोजक नहीं हो पा रहा। प्रशासन से अनुमति मांगी थी, लेकिन नहीं मिली। यदि प्रशासन अनुमति देगा तो सोशल डिस्टेंस का पालन कर 17 अक्टूबर से रामलीला करवाई जाएंगी। राजेश कुमार, प्रधान सैनी रामलीला वेलफेयर साेसायटी

खबरें और भी हैं...