पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

समस्या:वेटिंग ने रोडवेज के लिए बढ़ाई परेशानी, अब डबल बैच बनाकर आवेदकों को मिलेगी ट्रेनिंग

जींद8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जींद डिपो ड्राइवर ट्रेनिंग स्कूल में 2167 की वेटिंग, विभाग के पास केवल 6 बसें, 2 हैं कंडम

हरियाणा रोडवेज ड्राइवर ट्रेनिंग स्कूल 16 अक्टूबर से खुल रहे हैं और अब वेटिंग ने रोडवेज के लिए परेशानी खड़ी कर दी है। ट्रेनिंग स्कूल के पास फिलहाल 6 बसें हैं। मार्च में बीच में छूटे बैच से ही शुरुआत होगी और यह बैच डबल है और इस बैच को निकालने में काफी परेशानियां आ रही है। क्योंकि रोडवेज के पास ट्रेनिंग के लिए 6 बसें हैं और 2 बस पहले ही कंडम घोषित हो चुकी है। 2167 की आवेदकों को 6 माह की वेटिंग है। ऐसे में ट्रेनिंग के लिए कुल 10 से 12 बसों की जरूरत है। ऐसे में 6 माह की वेटिंग, एक साल में तबदील हो सकती है।

वेटिंग बढ़ने से आवेदकों को काफी परेशानी होगी और अब बैच जल्दी पूरे करने के लिए रोडवेज डबल बैच में ट्रेनिंग की सोच रहा है और सर्दियों में आमतौर पर सिंगल बैच ही होता है और गर्मियों में ही डबल बैच की सुविधा होती है। बैच को जल्दी पूरा करने के लिए ट्रेनिंग स्कूल ने विभाग से दो बसें जो कंडम घोषित हुई है। उनकी एक्सटेंशन के लिए विभाग से मांग की है। अगर दो बसों को कुछ समय के लिए एक्सटेंशन मिलती है तो वेटिंग भी कम होगी और समय पर बैच निकल सकेगा। वहीं ट्रेनिंग के लिए समय में बदलाव कर डबल बैच किए जा सकते हैं। अभी तक ट्रेनिंग के लिए समय फिक्स नहीं हो सका है। इससे भी रोडवेज के लिए सिरदर्दी बढ़ रही है।

10 हजार से ज्यादा युवा बन चुके हैं ड्राइवर
अभी रोडवेज के ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल में 10 हजार से ज्यादा युवाओं के लाइसेंस बन चुके हैं। पहले ऑफ लाइन फार्म आते थे और अब ऑनलाइन फार्म भरने की सुविधा होने के बाद ज्यादा संख्या मे युवा ड्राइवर बनने में रुचि दिखा रहे हैं।

दिनभर में 270 युवाओं को ट्रेनिंग देने का लक्ष्य
ट्रेनिंग के लिए 270 युवाओं को ड्राइवर के लिए ट्रेनिंग देने का लक्ष्य है। इसके लिए आवदेकों को फोन पर भी सूचित किया जा रहा है कि ट्रेनिंग शुरू हो चुकी है। जिन युवाओं की ट्रेनिंग मार्च में शुरू हुई थी, उनकी पहले ट्रेनिंग कवर होगी और फिर बाद में आए आवेदकों की ट्रेनिंग होगी।

डबल शिफ्ट में दी जाएगी ट्रेनिंग : योगेंद्र आसरी
वेटिंग को देखते हुए डबल बैच में ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके लिए प्लान तैयार कर लिया गया है। बसों की संख्या को देखते हुए फैसला लिया गया है कि अक्टूबर व नवंबर में डबल बैच मॉर्निंग व इवनिंग में ट्रेनिंग होगी।
-योगेंद्र आसरी, ट्रैफिक मैनेजर जींद डिपो।

खबरें और भी हैं...