विवाद:फिल्में और पबजी गेम खेल बच्चे हो रहे एग्रेसिव

खरखौदा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गन्नौर. चाकू लगने पर घायलों को सीएचसी से खानपुर ले जाते हुए। - Dainik Bhaskar
गन्नौर. चाकू लगने पर घायलों को सीएचसी से खानपुर ले जाते हुए।
  • पिपली खेड़ा के राजकीय स्कूल में बेंच पर बैठने को लेकर विवाद, एक की मौत

खून-खराबे वाली फिल्में के साथ पबजी गेम। किशोर और बच्चों में ये लत अपराध का कारण भी बन रही है। गन्नौर में 10 दिन में दो मामले सामने आ चुके है। छात्र किताब का ज्ञान लेने के साथ चाकू लेकर स्कूल में पहुंच रहे है। इतना ही नहीं बेखाैफ होकर वारदात को अंजाम दे रहे है।

मंगलवार को पिपली खेड़ा के राजकीय स्कूल में 11वीं क्लास के छात्र ने क्लास रूम में बैंच पर बैठने को लेकर कहासुनी में अपने सहपाठी के साथ ही उसके सगे भाई पर चाकू से हमला कर दिया। चाकू सहपाठी के लीवर पर लगने से अस्पताल में मौत हो गई है।

इसी तरह शहर के मॉडल संस्कृति स्कूल के छात्र नितिन पर उसके सहपाठी ने स्कूल की छुट्टी होते ही बीच सड़क पर चाकू से हमला कर घायल कर दिया था। सालभर पहले भिगान के एक प्राइवेट स्कूल में शिक्षिका को छात्र ने चाकू मार दिया था। इस तरह की वारदातों में चिकित्सक शोध में सामने आया कि बच्चों का ज्यादा समय मोबाइल से चिपके रहना खतरनाक साबित होता जा रहा है।

ज्यादातर मामलों में देखा गया है कि पालक बच्चों को खाना खिलाने या फिर उन्हें किसी प्रकार की मस्ती करने से रोकने के लिए उनके हाथ में मोबाइल फोन पकड़ा देते हैं। दूसरा मुख्य कारण अकेलापन है। अकेलेपन के कारण मनोरंजन के लिए मोबाइल फोन या टीवी पर निर्भरता हो गई है, जिससे वे इस तरह के गेम खेलने की लत पाल लेते हैं।

एक्सपर्ट की राय

आजकल की फिल्में व पबजी जैसे खतरनाक गेम्स की वजह से बच्चे ज्यादा अग्रेसिव हो रहे है। फिल्मों व गेम में तलवार, चाकू मारना, गोली चलाना बड़े कॉमन लगते है। जोकि असलियत में नुकसान दायक है। माता-पिता को चाहिए वे बच्चों के दोस्त बनकर रहे। अगर कोई परेशानी आती है तो उसका समाधान निकालने।
-डॉ. वीरेंद्र, मनोरोग विशेषज्ञ।

तीन साल में हुई घटनाएं

  • पहली घटना : साल 2019 में भिगान स्थित श्रीराम कृष्ण पब्लिक स्कूल में 11वीं के छात्र ने महिला टीचर पर चाकू से 3 वार किए।
  • दूसरी घटना : साल 2018 में सोनीपत के गन्नौर स्थित ज्ञानदीप स्कूल की 9वीं क्लास के छात्र पर चाकुओं से हमला हुआ था। हमलावर छात्र ने घटना को अंजाम स्कूल परिसर में दिया था।
  • तीसरी घटना : 18 सितंबर को राजकीय संस्कृति स्कूल में छात्र नितिन को उसके सहपाठी ने चाकू से हमला किया था। वारदात के पीछे क्लास में मोबाइल में पिस्तौल की पिक्चर्स देखने को लेकर कहासुनी हुई थी। चौथी घटना : पिपली खेड़ा के राजकीय स्कूल में बैंच पर बैठने को लेकर सगे भाइयों पर चाकू से हमला किया। एक कि मौत हो गई है, जबकि दूसरे की हालत नाजुक बताई जा रही है।
खबरें और भी हैं...