थर्मल की पाइपलाइन की सुरक्षा राम भरोसे:पाइपलाइन चोरी के बाद भी सुरक्षा के लिए नहीं लगाया कर्मी

मतलौडा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पानीपत थर्मल पावर स्टेशन से 1500 मीटर पाइपलाइन चोरी के बाद भी बाकी बची हुई पाइपलाइन के लिए थर्मल प्रशासन ने कोई सुरक्षा कर्मी नहीं लगाया है। ना ही किसी पेट्रोलिंग टीम की ड्यूटी लगाई गई। जिससे थर्मल पाइपलाइन राम भरोसे है। थर्मल पावर प्लांट की सुरक्षा की दीवार से बाहर भी करोड़ों रुपए का सामान बिना किसी सुरक्षा के लावारिस की तरह पड़ा है। थर्मल प्रशासन को इसकी सुरक्षा की तनिक भी चिंता नहीं है। जिसका फायदा उठाकर चोर 1500 मीटर लंबी लोहे की पाइपलाइन चोरी कर ले गए। लेकिन थर्मल प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी। जानकारों की मानें तो डेढ़ किमी लंबी लोहे की पाइपलाइन बिछाने में करीब 80 लाख रुपए का खर्च पड़ता है। लेकिन थर्मल प्रशासन इसे कबाड़ी के भाव मात्र 14 लाख रुपए का नुकसान बता रहा है। इतनी बड़ी चोरी 1-2 दिन में मुमकिन नहीं हो सकती। कहने को तो थर्मल प्रशासन ने इस पाइपलाइन को विकल्प के रूप में रखा था। लेकिन थर्मल प्रशासन इसे भूले बैठा था।

छोटी चोरी मान नहीं कराई जा रही एफआईआर
पानीपत थर्मल पावर स्टेशन की आवासीय कॉलोनी में ज्यादातर मकान खाली पड़े हैं। इनमें कोई भी कर्मचारी न रहने के कारण खाली पड़े मकानों को चोर अपना निशाना बना रहे हैं। इन खाली पड़े लगभग सभी मकानों के लोहे की गेट व खिड़कियां चोरी हो चुकी हैं। लेकिन थर्मल प्रशासन इससे अनजान बना बैठा है और शायद इसे छोटी चोरी मान आज तक एफआईआर भी दर्ज कराना उचित नहीं समझा।

खबरें और भी हैं...