मंचन:रामलीला में हुआ ताड़का का वध

नरवाना19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रामलीला में ताड़का वध के बाद विलाप करते कलाकार। - Dainik Bhaskar
रामलीला में ताड़का वध के बाद विलाप करते कलाकार।

श्रीरामा भारतीय कला केंद्र के तत्वावधान में चल रही रामलीला के दूसरे दिन विश्वामित्र द्वारा दशरथ से राम-लक्ष्मण को मांगना, यज्ञ की रक्षा, ताड़का-सुबाहु वध, अहिल्या उद्धार, सीता स्वयंवर का निमंत्रण व राम द्वारा शिव का धनुष तोड़ने का प्रसंग हुआ। श्रीराम, लक्ष्मण राक्षसों से ऋषि मुनियों की रक्षा करते हैं।

दशरथ की भूमिका में पुजारी मेहरचंद का अभिनय लाजवाब रहा। श्रीराम की भूमिका में प्रमोद सिंगला, लक्ष्मण की भूमिका में रामप्रकाश तथा ताड़का की भूमिका में सुरेश धींगड़ा ने प्रस्तुति दी। विश्वामित्र की भूमिका रामनिवास जैन ने निभाई। ताड़का वध के स्यापा में राकेश सेतिया व शमशेर की अहम भूमिका रही।

मंच संचालक राकेश शर्मा, श्री रामा भारतीय कला केंद्र के प्रधान भारत भूषण गर्ग ने बताया कि दर्शकों के बैठने के लिए कुर्सियों का प्रबंध किया गया है। मुख्य अतिथि के रूप जयदेव बंसल पूर्व मंडी प्रधान व अश्विनी गर्ग (रिंकू) ने शिरकत की। इस अवसर पर श्री रामा भारतीय कला केंद्र के प्रेस प्रवक्ता सुभाष सिंगला, अचल मित्तल, महावीर जैन, प्रेम अरोड़ा, कुलदीप सिंगला, वेद अरोड़ा, सुंदर बाता मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...