तीन भाइयों के घरों को चोरों ने बनाया निशाना:काबड़ी गांव में घर में सोते रहे 12 सदस्य 1.40 लाख रुपए कैश व गहने चाेरी, केस

पानीपत3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत. चाेरी के बाद खुली पड़ी अलमारी दिखाते हुए साेनू। - Dainik Bhaskar
पानीपत. चाेरी के बाद खुली पड़ी अलमारी दिखाते हुए साेनू।
  • नशीला पदार्थ देने का शक

काबड़ी गांव में चाेर 3 भाइयाें के घराें से 1.40 लाख रुपए कैश और करीब 35 हजार रुपए के गहने चाेरी कर ले गए। जिन 3 कमराें में चाेरी हुई उसमें करीब 12 लाेग साे रहे थे। चाेर अलमारियां ताेड़कर चाेरी कर ले गए, लेकिन किसी की भी नींद नहीं खुली। परिजनाें का शक है कि चाेराें ने नशीला पदार्थ सुंगाकर चाेरी की है। पीड़ित ने पुराना औद्याेगिक थाना में अज्ञात के खिलाफ चाेरी का केस दर्ज कराया है। काबड़ी गांव निवासी साेनू पुत्र राेशनलाल ने बताया कि वह रिफाइनरी में ठेकेदार के पास हेल्पर का काम करता है। अगल-बगल में बने दाे घराें में बड़े भाई सुरेश और कृष्ण रहते हैं और तीनाें घराें का एक एंट्री गेट है।

4 अगस्त की रात 12 बजे तक परिजन जाग रहे थे। एक कमरे में साेनू व उसकी पत्नी प्रीति साे रही थी। जबकि दूसरे घर के कमरे में बड़े भाई सुरेश, भाभी वीना और उनके 4 बच्चे और तीसरे कमरे में पिता, मां भरपाई, बहन चंदा और कमरे के बाहर भाई कृष्ण साे रहा था। चाेर रात काे घर में घुसे। साेनू के कमरे की अलमारी से 87 हजार रुपए, माेबाइल व करीब 35 हजार के गहने, कृष्ण के कमरे से माेबाइल और सुरेश के कमरे की अलमारी से 53 हजार रुपए कैश व एक गैस सिलेंडर चाेरी करके ले गए। जब सुबह जगे ताे मैन गेट खुला पड़ा था।

पिता के इलाज और मकान बनाने काे लिया था कर्ज
साेनू ने बताया कि शक है कि चाेराें ने नशीला पदार्थ सुंगाकर वारदात की है। क्याेंकि घर में 36 दिन का एक बच्चा है। राेजाना रात काे वाे राेता था, लेकिन चाेरी वाली रात काे वह रातभर साेता रहा और घर में किसी की नींद नहीं खुली। सुबह मां भरपाई ने आकर जगाया तब नींद खुली और चाेरी का पता चला। साेनू ने बताया कि मकान में चिनाई का काम लगा है। मकान बनाने के लिए और पिता के इलाज के लिए पड़ाेसी से ही एक लाख रुपए का कर्ज लिया था। अब चाेरी हाे गई।

खबरें और भी हैं...