पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

डाॅक्टराें की हड़ताल:पानीपत के 130 निजी अस्पतालाें ने 6 घंटे बंंद रखी ओपीडी, आठ हजार से ज्यादा मरीजाें काे उठानी पड़ी परेशानी

पानीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत . आईएमए के राष्ट्रीय मुख्यालय के निर्देशानुसार डाॅक्टराें की  हड़ताल के दाैरान डाॅ. पंकज मुटनेजा एडीसी काे ज्ञापन साैंपते हुए। - Dainik Bhaskar
पानीपत . आईएमए के राष्ट्रीय मुख्यालय के निर्देशानुसार डाॅक्टराें की हड़ताल के दाैरान डाॅ. पंकज मुटनेजा एडीसी काे ज्ञापन साैंपते हुए।
  • आईएमए के डाॅक्टराें ने स्काईलार्क में एकत्र हाेकर एडीसी काे साैंपा पीएम के नाम ज्ञापन, बाबा रामदेव काे गिरफ्तार करने की मांग

योग गुरु बाबा रामदेव के विचारों के विरोध में आईएमए(इंडियन मेडिकल एसाेसिएशन) के आह्वान पर जिले के करीब 130 निजी क्लीनिक-अस्पतालों में 6 घंटे (सुबह 8 से दाेपहर 2 बजे) तक ओपीडी बंद रही। वहीं बहुत से मरीजाें काे हड़ताल की जानकारी नहीं हाेने के कारण अस्पताल पहुंचकर परेशान हाेना पड़ा, क्याेंकि उन्हें ओपीडी में डाॅक्टर नहीं मिले। बहुत से मरीजाें काे डाॅक्टराें की पुरानी पर्ची से ही मेडिकल स्टाेराें से दवा खरीदकर ले जानी पड़ी।

शुक्रवार काे रूटीन के 8 हजार से ज्यादा मरीजाें काे परेशानी का सामना करना पड़ा। हालांकि इमरजेंसी ओपीडी और अस्पतालों में पहले से चल रहे मरीजाें का इलाज जारी रहा। शुक्रवार काे आईएमए से जुड़े 20 से ज्यादा डाॅक्टराें ने स्काईलार्क में एकत्र हाेकर पहले मीटिंग की। इसके बाद नवनियुक्त प्रधान डाॅ. जितेंद्र शर्मा की अगुवाई में एडीसी काे पीएम नरेंद्र माेदी के नाम ज्ञापन साैंपा।

बता दें कि हाल ही में ऐलोपैथिक इलाज को लेकर बाबा रामदेव के विचारों के खिलाफ शुक्रवार काे इंडियन मेडिकल एसाेसिएशन के डाॅक्टराें ने विराेध दिवस मनाया। आईएमए के नवनियुक्त जिलाध्यक्ष डॉ. जितेंद्र ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान 1500 से अधिक डॉक्टरों ने अपनी जान गंवाई है। सभी ने मानव जाति को बचाने के लिए योगदान दिया। इसके बाद भी डॉक्टरों को शारीरिक और मौखिक हिंसा का सामना करना पड़ रहा है।

परेशानी... प्राइवेट में नहीं मिला इलाज ताे सरकारी अस्पताल पहुंचा मशीन में हाथ आने से घायल श्रमिक

  • बबैल रोड स्थित एक फैक्ट्री में काम करने वाला राजू पवनांजलि अस्पताल पहुंचा। राजू ने बताया कि काम करते समय मशीन में हाथ आने से गहरी चोट लग गई। साथी उसे इलाज के लिए निजी अस्पताल ले गए। हड़ताल के कारण कई अस्पतालों में इलाज न होने पर उसे सिविल अस्पताल ले जाया गया।
  • स्लिप से खरीदी दवाएं : 6 घंटे ओपीडी बंद रहने के कारण मरीजाें ने परेशानी काे देखते हुए डाॅक्टराें की पुरानी पर्ची से ही मेडिकल स्टाेराें से दवा खरीदकर ले गए। करीब 10 फीसदी लाेगाें ने मेडिकल स्टाेर से दवा खरीदी।
  • सनौली रोड स्थित पवनांजलि अस्पताल में दोपहर 12 बजे तक 50 से अधिक मरीजों, अपेक्स अस्पताल से 33 मरीजों को और सनाैली राेड स्थिति आईबीएम अस्पताल से भी 27 से अधिक मरीजों को बिना इलाज के लौटना पड़ा। हैदराबादी से भी 50 से ज्यादा मरीजाें काे बिना इलाज के ही लाैटना पड़ा, वहीं बहुत से मरीजाें ने शाम तक रुककर इलाज कराया।

बाबा के बयानों से लोग टीका लगवाने से हिचक रहे हैं
आईएमए के पदाधिकारियों ने ज्ञापन सौंपकर ड्यूटी के दौरान स्वास्थ्य कर्मियों और डॉक्टरों पर हमला करने वालों के खिलाफ मामले दर्ज करने, फास्ट ट्रैक कोर्ट और सख्त कार्रवाई की मांग की। उन्हाेंने कहा कि बाबा रामदेव के खिलाफ कार्रवाई करके गिरफ्तार करें। डॉक्टरों ने कहा कि बाबा खुद की कोरोनिल दवा बेचने के लिए ओछे हथकंडे अपना रहे हैं। बाबा के बयानों से अब लोग वैक्सीन लगवाने से हिचक रहे हैं।

इधर, आईएमएम ने जितेंद्र अस्पताल के डाॅ. जितेंद्र को चुना नया प्रधान
काेराेना संक्रमण के चलते इस बार जिला आईएमए ने करीब दाे बाद आईएमए की नई टीम की घाेषणा की है। जितेंद्र अस्पताल के डाॅ. जितेंद्र शर्मा काे 2021-2022 के लिए नया प्रधान बनाया गया है। डाॅ. दिलीप को सेक्रेटरी बनाया गया है। वर्ष 1968 में डॉ. प्रेम कुमार आईएमए पानीपत के संस्थापक अध्यक्ष बने थे। उस समय करीब 10-12 सदस्य हुआ करते थे। अब सदस्यों की संख्या करीब 390 तक पहुंच गई है। नए समय की चुनौतियों पर उन्होंने कहा कि मरीज और डॉक्टरों के बीच जो दूरी बनी है उसे मिटाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...