• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • According To The New Guidelines Of The Health Department The Bodies Of Those Who Died Of Corona Infection Will Not Be Kept In The Mortuary

पानीपत स्वास्थ्य विभाग की नई गाइडलाइन:कोरोना संक्रमण से मरने वालों के शव अब मोर्चरी में नहीं रखे जाएंगे, जनसेवा दल करेंगे अंतिम संस्कार

पानीपत7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के पानीपत जिले में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस समय जिले में 2016 एक्टिव केस हैं। कोरोना की चपेट में सरकारी डॉक्टर भी आ गए हैं। आलम यह है कि मरीजों के इलाज के लिए ट्रेनी को ही फुल फ्लैश चार्ज देकर काम चलाया जा रहा है।

अब बाकी बचे डॉक्टरों को संक्रमण से बचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने एक बड़ा फैसला लिया है। डॉक्टरों का कहना है कि नई गाइडलाइन के अनुसार, कोरोना संक्रमण से मरने वालों के शवों को सिविल अस्पताल में नहीं रखा जाएगा। यहां तक की कोरोना संदिग्ध मरीजों के शव भी नहीं रखे जाएंगे। इन शवों को जनसेवा दल के सुपुर्द किया जाएगा। जनसेवा दल पदाधिकारी कोरोना की पूरी गाइडलाइन के मुताबिक शवों का अंतिम संस्कार करेंगे।

युवती का किया गया गाइडलाइन के मुताबिक अंतिम संस्कार

बिशनस्वरूप कॉलोनी स्थित निजी अस्पताल में 28 वर्षीय युवती की मौत हो गई है। युवती को कोरोना संक्रमण का संदिग्ध मरीज बताया जा रहा है। परिजन उसका शव लेकर सिविल अस्पताल पहुंचे, लेकिन डॉक्टरों ने शव को रखने से इंकार कर दिया। क्योंकि नई गाइडलाइन के अनुसार, कोरोना संक्रमण से मरने वालों के शवों को सिविल अस्पताल में नहीं रखा जाएगा। इसलिए परिजनों ने जन सेवा दल से बात की। फिर जन सेवा दल के सदस्यों ने ही शुक्रवार रात को शिवपुरी में मृतका का अंतिम संस्कार किया। स्वास्थ्य विभाग ने युवती की मृत्यु कोरोना से होने की पुष्टि नहीं की है।

शनिवार को कोरोना के 253 मामले आए सामने

जिले में शनिवार को कोरोना के 253 नए मरीज मिले। इनमें से रिफाइनरी टाउनशिप के 28 संक्रमित शामिल हैं। समालखा, मॉडल टाउन, सेक्टर 13, 17 व सेक्टर 18 में शनिवार को 60 केस मिले। बच्चों की संख्या 22 ‌है। कोरोना की तीसरी लहर में अब तक 3 वर्ष से कम आयु के 10 बच्चे कोरोना संक्रमित मिल चुके हैं। शनिवार को 123 लोग कोरोना से ठीक भी हुए हैं। अब जिले में कोरोना के एक्टिव केस 2016 हैं। इनमें से 18 लोग स्वास्थ्य केंद्रों में दाखिल हैं, बाकी घरों में आइसोलेट हैं। इस लहर में अब तक कोरोना से एक युवती समेत तीन लोगों की मौत हो चुकी है।

कम हो रही कोरोना की जांच

कोरोना की तीसरी लहर में जांच भी कम हो रही है। कोरोना जांच स्वास्थ्य विभाग के ‌लिए चिंता का विषय है। दूसरी लहर में हर रोज 2000 से अधिक लोग जांच कराते थे। इस लहर में हर रोज एक हजार लोगों की भी जांच नहीं होती। सैंपल के हिसाब से पॉजिटिविटी रेट 20 प्रतिशत से अधिक है। कोरोना के लगातार बढ़ रहे खतरे के बीच कोरोना सैंपलिंग की‌ संख्या लगातार घट रही है। यह स्वास्थ्य विभाग के लिए चिंता का विषय है। पिछले 6 दिन में अब तक महज 11835 लोगों ने अपनी जांच कराई है। हर रोज 1183 की औसत से कोविड जांच हो रही है।

जिले का पॉजिटिविटी रेट 6.2 प्रतिशत
जिले में अब तक कोरोना के 34,640 केस दर्ज हो चुके हैं। 644 लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक जिले में 4,99,312 लोगों की कोरोना जांच हो चुकी है। शनिवार को महज 741 लोगों ने अपनी कोरोना जांच कराई है। जिले में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट अब तक 6.2 प्रतिशत है। तीसरी लहर में पॉजिटिविटी रेट 10 प्रतिशत है।