पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • All 6 Members Of The Family, Including The Patient, A Heart Patient, Became Positive, Saying Had You Given Up Courage, There Would Have Been Trouble, All Won With Restraint And Cooperation.

जन संकल्प से हारेगा कोरोना:हार्ट मरीज पिता समेत परिवार के सभी 6 सदस्य पॉजिटिव हुए, बोले- हिम्मत छोड़ देते तो दिक्कत होती, संयम और सहयोग से सभी जीत गए

पानीपत2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत. गोविल यादव व उनका परिवार। - Dainik Bhaskar
पानीपत. गोविल यादव व उनका परिवार।
  • गंभीर संक्रमण होने के बावजूद अपनी इच्छाशक्ति से कोरोना को हराने वालों के जज्बों की कहानियां, पढ़िए आज 9वीं कड़ी- टीडीआई के 37 साल के गोविल यादव के परिवार के सभी सदस्य पॉजिटिव हुए, लेकिन हारे नहीं

“चारों ओर कोरोना का भय है। ऐसे में एक-दूसरे का सहयोग और संयम बहुत जरूरी है। मेरा परिवार भी तो संयम और सहयोग से ही ठीक हुआ। जानकारों ने खाने-पीने से लेकर दवा लाने तक की चिंता दूर कर दी। रही बात संयम और आत्मबल की तो पूरे परिवार ने एक-जुटकर होकर 7 दिन में ही काेरोना को हरा दिया।

इसलिए, मैं तो यहीं कहूंगा कि जो जिस तरह से मदद कर सकते हैं, कोरोना मरीज और उनके परिजनों की मदद करें। क्योंकि, इससे कोरोना पीड़ितों को लगता है कि उसके लिए लोग खड़े हैं और इस आत्मबल से वह जल्द ठीक हो जाता है। स्वास्थ्य विभाग के सहारे छोड़ेंगे तो हो लिया। मैं अपना अनुभव बता सकता हूं।

मेरे परिवार में सबसे पहले मैं, फिर पत्नी विजयलक्ष्मी, फिर पिताजी जगमाल सिंह यादव, 7 साल की बेटी जायना के बाद मेरी मां कमलेश और मेरी सवा साल की छोटी बेटी तिस्या पॉजिटिव हो गए। स्वास्थ्य विभाग की ओर से सिर्फ दो लोगों की दवा आई। विभाग की टीम तो गाड़ी लेकर आई गई कि आपके परिवार में 2 से ज्यादा लोग बीमार हैं, इसलिए शेष को अस्पताल जाना होगा, लेकिन हमने कहा कि लोग हमारी मदद करने को तैयार हैं। हम घर में ही जल्द ठीक हो जाएंगे।

मॉडल टाउन के मुकेश तलवार, सेक्टर-12 के सोनीजी आदि ने खाने-पीने के साथ ही दवा की चिंता भी दूर कर दी। सब कुछ समय पर घर पहुंचने लगा और हम सभी ने स्वास्थ्य पर ध्यान देना शुरू किया। भरपूर डाइट, व्यायाम और आराम की नींद लेनी शुरू की। पिताजी हार्ट के मरीज हैं, सर्जरी भी हो चुकी है।

हमें पता था कि हिम्मत हारे तो भारी परेशानी में फंस जाएंगे। पहले तो अलग-अलग रहते थे, लेकिन जब सब पॉजिटिव हो गए तो एकसाथ रहने लगे। हम सबने एक-दूसरे की मदद कर 7 दिन में ही कोरोना को हरा दिया। कोरोना मरीज और पीड़ित परिवार से यही कहना चाहूंगा कि हिम्मत न हारें। समय के साथ सब कुछ ठीक हो जाएगा।’ गोविल यादव | कोरोना वॉरियर

खबरें और भी हैं...