पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरकार के सामने रखी मांग:जिले की इंडस्ट्रीज में काम करने वाले सभी श्रमिकों को लगे वैक्सीन : चुघ

पानीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मैन्यूफैक्चरिंग एसोसिएशनों ने वर्चुअल बैठक कर सरकार के सामने रखी मांग

शहर की विभिन्न मैन्यूफैक्चरिंग एसोसिएशनों ने वर्चुअल मीटिंग करके सरकार व स्वास्थ्य विभाग से मांग की है कि पानीपत की सभी फैक्ट्रियाें में काम करने वाले मजदूराें काे वैक्सीन लगाई जाए। इसके लिए सभी फैक्ट्रियाें में डाेर-टू-डाेर जाकर मजदूराें काे वैक्सीन लगाई जाए।

अभी तक शहर में सिविल अस्पताल सहित विभिन्न सीएचसी, पीएचसी व अन्य स्थानों पर कोरोना का टीका लगाया जा रहा है। अब फैक्ट्रियाें में अभियान चलाया जाए। मैन्यूफेक्चरिंग एसोसिएशनों की शुक्रवार को हुई इस वर्चुअल बैठक की अध्यक्षता हरियाणा चैंबर ऑफ कामर्स के चेयरमैन विनोद खंडेलवाल व हरियाणा व्यापार मंडल के युवा प्रदेशाध्यक्ष एवं सीटीएमए प्रधान राकेश चुघ ने की। चुघ ने कहा कि अब 18 वर्ष आयु वर्ग से ऊपर वालाें काे वैक्सीन लगनी शुरू हो चुकी है। इसमें भारी संख्या में युवा वर्ग राहत का टीका लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करवा रहे हैं।

ऐसे में पानीपत की इंडस्ट्री संचालकों की भी मांग है कि श्रमिकों व कर्मचारियों को भी कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग अलग से मुहिम शुरू करें। हरियाणा कारपेट मैन्यूफैक्चरिंग एसोसिएशन सचिव अनिल मित्तल ने कहा कि पानीपत की इंडस्ट्री में करीब 5 लाख श्रमिक काम करते हैं। इनमें से कुछ श्रमिक यूपी के पंचायत व बंगाल में विधानसभा चुनाव को लेकर चले गए थे। कुछ लॉकडाउन के भय से यूपी, बिहार व बंगाल राज्यों में अपने घर चले गए हैं। अब पानीपत में 35 प्रतिशत श्रमिक ही बचे हैं।

मजदूराें का भय समाप्त करना बहुत जरूरी है

हरियाणा चैंबर्स ऑ​​​​​फ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के चेयरमैन विनाेद खंडेवाल ने कहा कि टीका लगने से श्रमिकों का कोविड को लेकर भय बना हुआ है। यह समाप्त करना बेहद जरूरी है। पंजाब की इंडस्ट्रीज में मजदूरों को डोर-टू-डोर जाकर कोरोना वैक्सीन लगाई गई हैं। पानीपत की इंडस्ट्री में भी उसी तर्ज पर कोरोना की वैक्सीन लगाई जाए। मजदूरों का पलायन रोकने के लिए श्रमिकों को वैक्सीन लगाना जरूरी है। अभी भी मजदूर अपने गांव जा रहे है, क्योंकि मजदूरों में कोरोना काे लेकर भय बना हुआ है।

खबरें और भी हैं...