पानीपत के इसराना में गुंडागर्दी:झगड़े में बीच-बचाव करने पर सेना के जवान और साथी पर जानलेवा हमला कर लूट, 7 के खिलाफ केस  दर्ज

पानीपतएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पीड़ित सुमित। - Dainik Bhaskar
पीड़ित सुमित।
  • इसराना थाना क्षेत्र के गांव मांडी का मामला
  • वाल्मीकि युवक को पीटने का विरोध कर रहा था जवान

मांडी गांव में वाल्मीकि युवक को पीटने का विरोध करने पर 8-10 युवकों ने सेना के जवान और उसके साथी पर जानलेवा हमला कर दिया। हमलावर देसी पिस्तौल, सरिये और डंडों से लैस थे। हमले में जवान के सिर और साथी के पूरे शरीर पर चोट लगी है। मारपीट के दौरान हमलावरों ने जवान की तीन तोले की सोने की चेन और 10 हजार रुपए भी लूट लिए। इसराना थाना पुलिस ने 7 के खिलाफ नामजद केस दर्ज किया है।

सुमित की शरीर पर डंडे के निशान।
सुमित की शरीर पर डंडे के निशान।

इसराना थाना क्षेत्र के गांव मांडी निवासी मोहित ने बताया कि वह भारतीय सेपा में क्लर्क के पद पर तैनात है। बीते दिनों वह छुट्टी पर गांव आया था। मंगलवार देर शाम को वह और गांव का साथी सुमित कार से पानीपत से घर आ रहे थे। जब वह गांव के सरकारी स्कूल के पास पहुंचे तो गांव के ही 8-10 युवक एक वाल्मीकि युवक के साथ मारपीट करते मिले।

दोनों ने कार से उतरकर झगड़े में बीच-बचाव कराना चाहा। आरोपियों ने युवक को तो छोड़ दिया और उनपर हमला कर दिया। हमलावरों में एक युवक देसी पिस्तौल लिए हुए था। बाकी सरियों और डंडों से लैस थे। सभी ने उनपर हमला बोल दिया। मोहित के सिर में धारदार हथियार लगा और सुमित को डंड़ों से पीटा गया। मारपीट के दौरान आरोपियों ने जवान से लूटपाट की। आसपास के लोगों ने उन्हें हमलावरों से बचाया और सिविल अस्पताल में भर्ती कराया।

इनके खिलाफ दर्ज हुआ केस
काकु पुत्र इंद्रसिंह, राहुल पुत्र जगदीश, मोनी पुत्र भोले, दीपक पुत्र देसी, गौरव पुत्र राजबीर, अमित पुत्र सत्ता और संदीप पुत्र सुभाष के खिलाफ 8 धाराओं में केस दर्ज किया गया है। मोहित ने बताया कि आरोपियों के खिलाफ पहले भी आपराधिक मामले दर्ज हैं। जवान का आरोप है कि पुलिस ने अभी तक किसी आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया है। सभी खुले घूम रहे हैं, जिससे उन्हें जान का खतरा है।