पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • ASI Fateh Singh Took Out The Tires Of The Seized Bullets Parked In The Warehouse Of The Police Line, Sent Him To Jail, The Section Was Like This, In Which There Is A Provision Of Up To Life Imprisonment.

खाकी का कारनामा:एएसआई फतेह सिंह ने पुलिस लाइन के मालखाने में खड़ी जब्त बुलेट के निकाले टायर, भेजा जेल, धारा ऐसी लगी, जिसमें उम्रकैद तक का प्रावधान

पानीपत23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पलवल के मितराैल गांव का रहने वाला है आरोपी एएसअाई फतेह, व्हीकल डिस्पाेजल टीम में था तैनात

पुलिस की व्हीकल डिस्पाेजल टीम का एएसअाई फतेहसिंह पुलिस लाइन के मालखाने में खड़ी हत्या केस में बरामद बुलेट बाइक के रिम समेत टायर निकालकर ले गया। जब भेद खुला ताे डीएसपी ट्रैफिक ने जांच की, जिसमें वह फंस गया। शनिवार काे सेक्टर-29 थाना पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

निशानदेही पर पुलिस ने बैरक से दाेनाें टायर बरामद कर लिए। उसका दाे दिन का रिमांड मांगा गया है। पुलिस काे शक था कि एएसआई ने कहीं और गड़बड़ी ताे नहीं की। मूलरूप से पलवल के मितराैल गांव निवासी फतेहसिंह करीब 20-25 साल से हरियाणा पुलिस में है। कुछ समय पहले ही वह मेवात से पानीपत आया था। यहां व्हीकल डिस्पाेजल टीम में तैनात था।

डीएसपी ट्रैफिक काे मालखाना गार्द इंचार्ज एसआई फूलकुमार ने बयान दिया कि 21 मई काे उसे पता चला कि किसी ने टायर चाेरी किए हैं। जब उसने मालखाना इंचार्ज एसआई चरण सिंह काे सूचना दी और अपने स्तर पर चाेरी की तलाश में जुट गए। कुछ दिन बाद पता चला कि टायर एएसआई फतेहसिंह ने चुराए हैं।

फाेन पर बात की ताे बाेला- हां मैं ले गया टायर, मेरी जिम्मेदारी

एसआई फूलकुमार के अनुसार, जब पता चला कि टायर एएसआई ले गया ताे गार्द में तैनात हवलदार कश्मीर सिंह ने एएसआई काे काॅल कर रिकाॅर्डिंग कर ली। जिसमें फतेहसिंह कह रहा है कि मैं टायर लेकर गया हूं और इनकी मेरी जिम्मेदारी है।

इनकी बाेली हाे चुकी है। मैं इनका इंचार्ज हूं। काेई आपकाे कुछ कहे ताे मेरा नाम ले देना। जब स्पष्ट हाे गया कि एएसआई ने ही टायर निकाले हैं ताे उच्चाधिकारियाें काे अवगत कराया गया। फतेहसिंह पर आईपीसी की धारा 409 (विश्वास का आपराधिक हनन) के तहत केस दर्ज किया गया।

अगर एएसआई दाेषी पाए गए ताे उम्रकैद तक संभव : सीनियर एडवाेकेट

सीनियर एडवाेकेट परीक्षित अहलावत ने बताया कि कोई लोकसेवक के नाते अथवा बैंक कर्मचारी, व्यापारी, फैक्टर, दलाल, अटॉर्नी या अभिकर्ता के रूप में किसी प्रकार की संपत्ति से जुड़ा हो या संपत्ति पर कोई भी प्रभुत्व होते हुए उस संपत्ति के विषय में विश्वास का आपराधिक हनन करता है तो वह अपराधी है। इसमें बुलेट पुलिस अभिरक्षा में थी। दाेषी पाए जाने पर उम्रकैद या 10 साल की कैद व जुर्माना हाे सकता है।

बुलेट की हाेनी थी नीलामी, रिजर्व प्राइज भी तय हाे चुका था

माॅडल टाउन थाना एरिया में जनवरी 2016 में 21 वर्षीय राेहित की गाेली मारकर हत्या हुई थी। पुलिस ने मामले में हवलदार काे गिरफ्तार कर उसकी बुलेट बाइक बरामद की थी। यही बुलेट मालाखाना में खड़ी थी। जिसकी नीलामी हाेनी थी। 29 अप्रैल काे बुलेट की रिजर्व प्राइज लग चुकी थी। लाॅकडाउन की वजह से नीलामी नहीं हाे पाई।

जाे जैसा करेगा, वैसा भरेगा : एसपी

​​​​​​​बुलेट बाइक के टायर निकालने पर एएसआई फतेहसिंह काे गिरफ्तार किया है। अाते ही सबसे पहले सभी पुलिसकर्मियाें काे ईमानदारी से ड्यूटी करने के लिए निर्देश दिए थे। अब जाे जैसा करेगा, वाे वैसा भरेगा। गलत काम बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। -शशांक कुमार सावन, एसपी, पानीपत

खबरें और भी हैं...