• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Average electricity bills sent by the users and the industry remained closed, the target was 300 crores, only 4.8.58 crores was received

बिजली बिल / उपभाेक्ताओंं काे एवरेज गलत बिजली बिल भेजे और इंडस्ट्री बंद रही, 300 कराेड़ का था टारगेट, 4ं5.58 कराेड़ रुपए ही मिले

X

  • इस राशि में बिजली निगम के लिए अधिकारियों व कर्मचारियों का वेतन, बिजली उपकरण व अन्य खर्च निकालना हुआ मुश्किल

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

पानीपत. उपभाेक्ताओं के एवरेज लगाकर भारी भरकम गलत बिल भेजे और 2 माह इंडस्ट्री भी बंद रही। इसलिए बिजली निगम की 2 माह में 300 कराेड़ से ज्यादा के टारगेट में से मात्र 45.58 कराेड़ ही आमदनी हुई है। इससे अब नाैबत यह आ गई है कि बिजली निगम काे अधिकारियों व कर्मचारियों का वेतन देना, बिजली उपकरण व अन्य खर्च निकालना तक मुश्किल हाे गया है। इस पर बिजली निगम अधिकारियाें का कहना है कि अब कार्यालय पूरी तरह से खुल गए हैं। इंडस्ट्री भी चालू हाे गई हैं। ऐसे में आमदनी बढ़ने की उम्मीद जागी है।

उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के पानीपत सर्कल में 2 लाख 75 हजार से ज्यादा उपभाेक्ता हैं। सामान्य दिनाें मेें भी पानीपत सर्कल की बिजली खपत 65 लाख यूनिट प्रति दिन से कभी कम नहीं रहती। वहीं गर्मी में ताे 120 लाख यूनिट तक खपत हाेती है। लाॅकडाउन के दाैरान इंडस्ट्री, शिक्षण संस्थान व अन्य निजी व सरकारी कार्यालय बंद रहने के कारण खपत 32 लाख यूनिट तक आ गई थी। वहीं मार्च व अप्रैल के बिल भी उपभाेक्ताओं काे एवरेज के आधार पर गलत ही मिले। इसका असर यह हुआ कि नाम मात्र उपभाेक्ताओँ ने ही अपने बिजली बिल जमा कराए।

बिजली निगम की पूरे अप्रैल माह में 7.32 कराेड़ और 22 मई तक 38.26 कराेड़ रुपए की आमदनी हुई। इस तरह अब तक बिजली के पास मात्र 45.58 कराेड़ रुपए ही अाए हैं। अपने 2 माह के 300 कराेड़ के टारगेट से अभी भी बिजली निगम 254.42 कराेड़ पीछे है। इसी महीने की 1 से 3 मई तक बिजली निगम की आय शून्य रही थी। 4 मई काे मात्र 2.26 लाख रुपए से आय शुरू हुई। सबसे ज्यादा राशि 22 मई काे 4.60 कराेड़ हुई। अप्रैल 2019 की बात की जाए ताे बिजली निगम की आमदनी 102 कराेड़ व मई 2019 की आय 126 कराेड़ थी।

अप्रैल में 7.32 व 22 मई तक 38.26 कराेड़ ही आए 

बिजली निगम की पूरे अप्रैल माह में 7.32 कराेड़ और 22 मई तक 38.26 कराेड़ रुपए की आमदनी हुई। इस तरह अब तक बिजली के पास मात्र 45.58 कराेड़ रुपए ही आए हैं। अपने 2 माह के 300 कराेड़ के टारगेट से अभी भी बिजली निगम 254.42 कराेड़ पीछे है। इसी महीने की 1 से 3 मई तक बिजली निगम की आय शून्य रही थी। 4 मई काे मात्र 2.26 लाख रुपए से आय शुरू हुई। सबसे ज्यादा राशि 22 मई काे 4.60 कराेड़ हुई। अप्रैल 2019 की बात की जाए ताे बिजली निगम की आमदनी 102 कराेड़ व मई 2019 की आय 126 कराेड़ थी।

 अब बढ़ेगी आय : एक्सईएन

^अब बिजली निगम की आय बढ़गी, क्याेंकि अब कार्यालय खुल गए हैं। वहीं सभी अधिकारियाें व कर्मचारियाें काे निर्देश दिए हैं कि राेजाना जितने भी उपभाेक्ता अपनी गलत बिलाें की समस्या लेकर आते हैं, उनकाे पूरी तरह से संतुष्ट करके भेजा जाए। इन सभी प्रयासाें से बिजली निगम की आमदनी और भी ज्यादा बढ़ने की उम्मीद जागी है।
- संजीव कुमार शर्मा, एक्सईएन सिटी डिविजन, पानीपत सर्कल बिजली निगम।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना