पानीपत में पकड़ी गई ब्लैकमेलर महिला:कारोबारी से दोस्ती कर बनाई वीडियो, 7 माह में हड़पे 18 लाख, अब 3 लाख लेते हुई गिरफ्तार

पानीपत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के पानीपत जिले के एक कारोबारी से ब्लैकमेल कर लाखों रुपए हड़पने वाली महिला को पुलिस ने रंगे हाथों पकड़ लिया है। आरोपी महिला ने कारोबारी से 7 माह में 18 लाख रुपए हड़प लिए थे। इतना ही नहीं, स्टांप पेपर पर भविष्य में ब्लैकमेल न करने के बारे में लिखित भी दे दिया। मगर महिला दगाबाजी से बाज नहीं आई। उसने कारोबारी को फिर से ब्लैकमेल कर 6 लाख रुपए मांगे। जिस पर कारोबारी ने पुलिस के साथ मिलकर महिला को रुपए देने के बहाने पानीपत बुलाया और यहां पुलिस ने उसे रंगे हाथों रुपए लेते हुए गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी महिला को कोर्ट में पेश किया गया, जहां से उसे तीन दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। महिला दो बच्चों की मां है और वह हाल में सोनीपत रहती है।

जूस में नशीला पदार्थ मिलाकर पिलाया, फिर महिला ने बनाई आपत्तिजनक वीडियो

सिटी थाना पुलिस को दी शिकायत में सुभाष ने बताया कि वह मूल रूप से पंजाब के संगरूर जिले का रहने वाला है। वह पानीपत में व्यापार करता है। उसने बताया कि अगस्त 2021 में उसके मोबाइल फोन पर एक महिला की कॉल आई। जिसने अपना नाम प्रियांशी (काल्पनिक नाम) बताया था। उसने कृष्ण को कहा था कि वह उसके साथ लिविंग रिलेशनशिप में रहना चाहती है। सुभाष ने उसे मिलकर बात करने के बारे में कहा। कुछ दिनों बाद प्रियांशी पानीपत उसके पास आई।

महिला ने यहां आने के बाद बताया था कि वह मूल रूप से काबड़ी रोड जिला पानीपत व हाल निवासी जीवन नगर कॉलोनी, नजदीक सैनी भवन सोनीपत की है। इस मुलाकात के बाद दोनों के बीच कही बार मुलाकात हुई। सुभाष का कहना है कि एक दिन प्रियांशी ने उसे जूस में कोई नशीला पदार्थ पिलाया दिया। जूस पीने के बाद उसे चक्कर आने लगे और वह बेहोश हो गया। बेहोश होने के पहले तक सुभाष को सभी बातों का पता था। इस दिन के कुछ दिनों बाद सुभाष को प्रियांशी ने गलत तरीके से बनाई हुई अलग-अलग वीडियो दिखाई। जिसके बाद वह ब्लैकमेल करने लगी।

रुपए लेने के बाद स्टांप पेपर पर भी लिखवाया, नहीं करुंगी ब्लैकमेल

ब्लैकमेल करते हुए उसने रुपयों की मांग की। रुपए न देने पर उसके खिलाफ पुलिस कार्रवाई करवाने के बारे में भी धमकी दी। डर की वजह से कृष्ण ने महिला द्वारा मांग गए 2,50,000 रुपए नकद दे दिए । फरवरी 2022 में सोनीपत थाने में प्रियंका ने शिकायत दी। जिसके बाद सुभाष के पास सोनीपत थाने के एक मुलाजिम का फोन आया, जिसने कहा कि आपके खिलाफ प्रियांशी ने शिकायत दी हुई है। इसलिए प्रियांशी जितने रुपए मांग रही है, वह उसे दे दो, नहीं तो आपके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर दिया जाएगा।

इसके बाद महिला ने 15 लाख रुपए की मांग की। मगर सुभाष 15 लाख का इंतजाम नहीं कर सका, तो उसने महिला को कहा कि वह इतने रुपए नहीं दे सकता है। जिस पर महिला ने सुभाष से वादा किया कि वह उससे लास्ट बार रुपए ले रही है। इसलिए वह 10 लाख रुपए उसे दे दे। इस वादे के बाद सुभाष ने 10 लाख रुपयों का इंतजाम किया। महिला ने उसे कोर्ट में आकर लिखित समझौता करने के बारे में कहा। कोर्ट में महिला ने खुद ही 100 रुपए का स्टांप पेपर लिया। 10 लाख नकद लेने के बावजूद भी उसे स्टांप पेपर पर सिर्फ दो लाख रुपए में समझौता होने, भविष्य में एक-दूसरे से न मिलने, कोर्ट केस व पुलिस केस न करने, ब्लैकमेल और परेशान न करने के बारे में समझौता लिखवाया।

कारोबारी करने लगा आत्महत्या, ड्राइवर ने दी जीने की राह

कुछ दिनों बाद महिला ने फिर से उसे ब्लैकमेल करना शुरू कर दिया। इस बार महिला ने फोन कर कहा कि वह उसके संबंधों से गर्भवती हो गई है। अगर वह इस केस से बचना चाहता है तो वह उसे साढ़े 6 लाख रुपए दे दे। डरे हुए कारोबारी ने फिर से उसे साढ़े 6 लाख रुपए दे दिए। फिर कुछ दिनों बाद महिला ने सोनीपत के एक व्यक्ति को पुलिसकर्मी बनाकर उसके पास कॉल करवाई। जिसने कहा कि प्रियंका ने शिकायत दी हुई है। इसलिए वह थाने में आ जाए।

अगर थाने में नहीं आया तो पुलिस उसे जबरदस्ती उठाकर थाने में ले आएगी। इस बार महिला ने 10 लाख रुपयों की मांग की थी। रुपयों का इंतजाम न होने पर सुभाष ने आत्महत्या करने का फैसला लिया। जिसके बाद सुभाष के ड्राइवर ने उसका हौसला बढ़ाया। ड्राइवर ने कहा कि इस महिला ने आपको पूरी जिंदगी डरा धमका कर ब्लैकमेल किया। अगर आप इसकी शिकायत पुलिस को नहीं करोगे तो किसी दूसरे व्यक्तियों को भी ब्लैकमेल करती रहेगी। आत्महत्या करने से कोई समाधान नहीं हो सकता। इस बात से सुभाष का हौसला बढ़ा।

यूं पकड़ में आई ब्लैकमेलर महिला

इसके बाद सुभाष पानीपत सिटी थाना पहुंचा। जहां पहुंच कर उसने पुलिस को शिकायत दी। शिकायत में बताया था कि महिला उससे अब तक करीब 18 लाख रुपए ब्लैकमेल कर हड़प चुकी है। अब फिर वह 6 लाख रुपए मांग रही है। इसके बाद सिटी थाना पुलिस ने ड्यृटी मजिस्ट्रेट राजेश कौशिक XEN नगर निगम की अगुवाई में कोर्ट कॉम्प्लेक्स शिवपुरी के सामने एक सफेद थैली में 4 बंडल 500-500 रुपए के, एक बंडल में 2000 के 42 नोट व 500 के 32 नोट यानि कुल तीन लाख रुपए रखे।

एक बंडल में से 500 रुपए के नोट पर ड्यूटी मजिस्ट्रेट से हस्ताक्षर किए। सोमवार शाम 5 बजे महिला को उक्त पते पर बुलाया गया। कुछ देर बाद वहां महिला महरुन शर्ट व काली जींस पहने हुए कमर पर पिट्ठु बैग लटकाए हुए आई। जैसे ही सुभाष ने उसे रुपए पकड़ाए, पुलिस ने मौके पर ही उसे दबोच लिया।