पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

फसल खरीद:अनाज मंडी में 6 दिन में 527 किसानों का 1.57 लाख क्विंटल गेहूं खरीदा, लेकिन अब तक पैसे नहीं मिले

पानीपत7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • धान का 20 करोड़ रुपए का भुगतान रुकने व किसानों के खाते में पैसे डालने के खिलाफ आढ़तियाें की अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू
  • हड़ताल के पहले दिन जिलेभर की मंडियाें में पहुंचे 224 किसानाें का नहीं बिका 1.07 लाख क्विंटल गेहूं
  • प्रदेश सरकार ने 72 घंटे में किया था रुपए भुगतान का दावा, नहीं मिली किसानों को पेंमेंट

अनाज मंडी आढ़ती एसोसिएशन की गुरुवार काे शुरू हुई प्रदेश स्तरीय हड़ताल में जिले की सभी अनाज मंडियाें में गेहूं का एक दाना भी नहीं बिका। जिलेभर की सभी मंडियाें में 224 किसान करीब 1.07 लाख क्विंटल गेहूं लेकर पहुंचे। सभी खाली हाथ ही लाैटे।

वहीं, 6 दिनाें में 527 किसानों का 1.57 लाख क्विंटल गेहूं खरीदा जा चुका है, लेकिन किसी भी किसान के खाते में पैसे का भुगतान नहीं हुआ है। जबकि प्रदेश सरकार ने 72 घंटे के अंदर भुगतान का दावा किया था।

अब अधिकारियाें का कहना है कि किसानाें व आढ़तियाें ने अभी तक दस्तावेज व अन्य औपचारिकताएं पूरी नहीं की हैं। इसलिए राशि नहीं पहुंची है। अनाज मंडी आढ़ती एसेसिएशन के बैनर तले गुरुवार काे प्रदेश स्तरीय हड़ताल के समर्थन में पानीपत अनाज मंडी में भी आढ़तियाें ने ताेल पूरी तरह बंद रखा।

इधर, मतलौडा अनाज मंडी में गुरुवार को अनाज मंडी आढ़ती एसोसिएशन की हड़ताल के कारण गेहूं की खरीद नहीं हुई। मंडी में 27 किसान 24,161 क्विंटल गेहूं लेकर पहुंचे।

75 क्विंटल गेहूं लेकर पहुंचे 18 किसान

पानीपत नई अनाज मंडी में 18 किसान करीब 75 क्विंटल गेहूं लेकर पहुंचे। समालखा में 15 किसान 3000 क्विंटल, मतलाैडा में 24 किसान 24.101 क्विंटल, बापाैली में 153 किसान 70 हजार क्विंटल, सनाैली में 24 किसान 10000 क्विंटल गेहूं व इसराना में 5 किसान 800 क्विंटल गेहूं लेकर पहुंचे।

किसानाें काे सीधे भुगतान होगा ताे आढ़ती कहां जाएंगे

सरकार किसानाें के खाताें में फसल का भुगतान करना चाहती है। जबकि आढ़ती अपने खाताें में भुगतान चाहते हैं। आढ़तियाें का तर्क है कि वे किसानाें काे सालभर समय-समय पर पैसा देते हैं। अगर सरकार किसानाें काे सीधे भुगतान करेगी ताे आढ़ती कहां जाएंगे।

5 कराेड़ रुपए मजदूरों की मजदूरी बकाया है

आढ़तियाें की प्रदेश स्तरीय हड़ताल गुरुवार काे शुरू हाे गई। आढ़तियाें ने कहा कि धान के सीजन का करीब 20 कराेड़ रुपए बकाया है। इसमें करीब 15 कराेड़ रुपए एफसीआई से आढ़त का कमीशन व 5 कराेड़ रुपए मजदूरों की मजदूरी बकाया है।

आढ़तियों ने उठाई ये प्रमुख मांगें, बोले- पूरे सीजन दिया जाए पर्याप्त बारदाना

  • पूरे सीजन में बारदाना पर्याप्त दिया जाए।
  • अनाज मंडी में काम करने वाली लेबर की पेमेंट भी आढ़तियाें के खाते में ही आए।
  • मंडी में पीने के पानी की व्यवस्था नहीं है। नया ट्यूबवेल लगाया जाए।
  • मंडी में पुलिस चाैकी बनाई जाए।
  • अनाज का भुगतान किसानाें की बजाय सीधे आढ़तियाें के खाताें में आए।

रजिस्ट्रेशन व सर्वर डाउन के नाम पर किसानों को परेशान करना बंद करे सरकार : पूर्व सीएम
पूर्व सीएम एवं नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने गुरुवार काे पानीपत अनाज मंडी का दाैरा कर किसान व आढ़तियाें की समस्याएं सुनी।

हुड्डा ने कहा कि प्रदेशभर से किसानों की शिकायतें मिल रही हैं। एक अप्रैल से खरीद शुरू करने के प्रदेश सरकार के ऐलान के बावजूद मंडियों में व्यवस्थाएं शून्य हैं। किसानों को नमी, रजिस्ट्रेशन और सर्वर डाउन के बहाने परेशान किया जा रहा है।

72 घंटे में भुगतान करने का प्रदेश सरकार का दावा भी छलावा ही है। गेहूं की नमी का मानक 14 से घटाकर 12 प्रतिशत कर दिया है। हुड्डा ने आराेप लगाया कि भाजपा सरकार का रवैया हमेशा से किसान विरोधी रहा है।

किसान आंदाेलन कांग्रेस का नहीं, बल्कि किसानों का है : हुड्डा आढ़तियाें के खाते में भुगतान के सवाल पर पूर्व सीएम चुप रहे। आढ़ती विशेष रूप से फसलाें का भुगतान किसानाें के खाताें में करने का भी विराेध कर रहे हैं। पूर्व सीएम से आढ़तियाें व किसानाें की हड़ताल के बारे में पूछा गया ताे उन्हाेंने कहा कि प्रजातंत्र में सभी काे अपनी बातें रखने का अधिकार है। 3 कृषि कानूनाें के खिलाफ जाे आंदाेलन चल रहा है, वह कांग्रेस का नहीं किसानों का है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें