पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

प्रॉपर्टी टैक्स घोटाला:695 प्लॉट्स पर कॉमर्शियल एक्टिविटी, 7 साल से खाली बता भरते रहे प्रॉपर्टी टैक्स

पानीपत5 दिन पहलेलेखक: नरेश मेहरा
  • कॉपी लिंक
  • 2011 में खाली मिले प्लाॅट में बना लीं दुकानें, नक्शा भी नहीं बनवाया

प्राॅपर्टी टैक्स जमा कराने के नाम पर बड़ा गाेलमाल सामने आया है। निगम ने कंपनी से शहर का सर्वे कराया है। जिसमें 695 ऐसी प्राॅपर्टी पकड़ में आई है, जिनमें कॉमर्शियल एक्टिविटी चल रही है। लेकिन इनके मालिक 7 साल से खाली प्लाॅट्स बताकर 37.50 पैसे प्रति वर्ग गज के हिसाब से प्राॅपर्टी टैक्स जमा करवाते आ रहे हैं। अब नगर निगम इनसे 18 रुपए से 36 रुपए प्रति वर्ग गज तक की रेट से टैक्स वसूलेगा।

निगम ने ऐसे सभी प्रॉपर्टी मालिकों को नोटिस देकर बिल जमा कराने को कहा है। 28 फरवरी तक बिल जमा नहीं कराया तो 1 मार्च से सीलिंग प्रक्रिया शुरू होगी। निगम को इससे करीब 50 करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान है। इन कॉमर्शियल एक्विविटी करने वालों ने मकान बनाने का नक्शा भी पास नहीं कराया। निगम की संयुक्त कमिश्नर अनुपमा मलिक ने कहा कि अगर नोटिस के मुताबिक बिल जमा नहीं कराए गए तो फिर सील की कार्रवाई शुरू होगी।

नगर निगम के सर्वे में हुआ खुलासा, बिना नक्शे के बनती रहीं इमारतें, अब नोटिस

इसके 2 जिम्मेदार

प्लाॅट मालिकों ने बिना नक्शा पास कराए बिल्डिंग बना दी: 2013 में निगम ने एक कंपनी से सर्वे कराया था। उस समय 695 प्लाॅट्स खाली थे। अब 2020 में नए सिरे से सर्वे कराया ताे इनमें मकान बने मिले, जबकि भवन मालिक 101 से 500 वर्ग गज प्लाॅट को खाली बताकर 37.50 पैसे जमा करवाते रहे। बिना नक्शे के ही बिल्डिंग बना ली।

बिल्डिंग ब्रांच की जानकारी में बनते गए मकान: बिल्डिंग ब्रांच की जानकारी में ही शहर में अवैध रूप से मकान बनते गए। इसलिए किसी ने नक्शा भी पास नहीं कराया। निगम को ऐसे बिल्डिंग सील करनी थी, लेकिन अब सर्वे से निगम कर्मचारियों की नाकामियां उजागर हो रही है।

अब दिया 250 बिल्डिंग मालिकों को नोटिस

बिल्डिंग ब्रांच के इंस्पेक्टर विकास ने इस बारे में कहा कि सर्वे के बाद पता चला तो इसमें से 250 भवन मालिकाें काे नक्शा पास कराने के लिए नाेटिस दिए गए हैं। इनमें से 50 ने आवेदन भी जमा करवा दिया है। वहीं 125 भवन मालिकाें काे सुनवाई के लिए बुलाया गया है। जाे अन्य भवन निर्माण हुए हैं, उनकी भी सूची तैयार की जा रही हैं। बिना नक्शा पास हुए जाे भवन निर्माण हुए हैं, उन सभी काे भी चिन्हित करके नाेटिस दिए जाएंगे।

2019 में बनी बिल्डिंग तो भी 2011 से टैक्स

प्रॉपर्टी टैक्स ब्रांच के सीनियर क्लर्क धर्मबीर सिंह का कहना है कि 2010 में प्राॅपर्टी टैक्स लागू हुआ और 2011 में नाेटिफिकेशन जारी हुआ। नियमानुसार 2011 से ही प्राॅपर्टी टैक्स जमा कराया जा रहा है। जिन लाेगाें ने बिना नक्शा पास कराए निर्माण किए हैं, उनसे 2011 से टैक्स वसूला जा रहा है। निगम काे क्या पता, लोगों ने कब भवन निर्माण किया। इसलिए, 2011 से ही टैक्स लगेगा। अगर किसी ने नक्शा पास कराया है ताे उनसे नक्शा पास कराने वाले समय से बिल जमा करवाया जाएगा।

तो एक मार्च से सील हाेंगे 127 बैंक्वेट हाॅल

127 बैंक्वेट हाल मालिक की सूची तैयार कर 28 फरवरी तक बिल जमा कराने का नाेटिस दिए हैं। इस समय में बिल जमा नहीं कराए ताे एक मार्च से इन्हें सील करना शुरू कर दिया जाएगा।

ऐसे समझें बिल तैयार हाेने का तरीका

घर या दुकान में बिजली चाेरी पकड़े जाने पर े एक साल का जुर्माना वसूला जाता है। ऐसे ही बिना नक्शा पास भवनाें का प्राॅपर्टी टैक्स भी 2011 में लागू हाेने से अब तक जमा कराया जा रहा है।

इस तरह खड़े हुए भवन

695 खाली प्लाॅट्स में अब 585 शाॅप, 34 ग्रीन एरिया, 16 कॉमर्शियल स्पेश, 15 गाेदाम, 11 डेयरी फार्म, 8 मंदिर, 7 निजी अस्पताल, 5 निजी ऑफिस, 2 बैंक और 2 धर्मशाला बनी हैं। इनके अलावा 1-1 चैरिटेबल ट्रस्ट, सामुदायिक केंद्र, ढाबा, गुरुद्वारा, मैरिज पैलेस, मस्जिद, पेट्राेल पंप, पुलिस स्टेशन व कमर्शियल पार्किंग बनी मिली हैं।

दिए समय में टैक्स जमा नहीं तो प्राॅपर्टी सील

नए सर्वे में 695 प्लाॅट्स पर निर्माण मिले हैं, जो 2013 में खाली थे। इनके मालिकाें काे 28 फरवरी तक टैक्स जमा करने को नाेटिस भेजे हैं। 127 बैंक्वेट हाॅल मालिकाें काे बिल भेजे हैं। जमा न होने पर एक मार्च से इन्हें सील करेंगे। -अनुपमा मलिक, जॉइंट कमिश्नर, नगर निगम, पानीपत।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें