पानीपत में 98388 रुपए की धोखाधड़ी:दो लोगों से जानकार बनकर और एक युवक को बैंककर्मी बन ठगा, विभिन्न धाराओं में तीनों केस दर्ज

पानीपत7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक चित्र - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक चित्र

हरियाणा के पानीपत जिले के लोगों को साइबर ठग बड़ी आसानी से अपना निशाना बना रहे हैं। रविवार को ठगी के 3 और मामले सामने आए हैं, जहां साइबर ठगों ने दो लोगों को जानकार बनकर व एक को बैंककर्मी बनकर ठग लिया। ठगों ने तीनों के खातों से 98,388 रुपए हड़प लिए। तीनों मामलों की शिकायत पीड़ितों ने पुलिस को दी। शिकायत के आधार पर संबंधित थाना पुलिस ने धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में केस दर्ज करके मामले की आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। मामले की जांच साइबर थाना पुलिस व इकोनॉमिक सेल टीम भी कर रही है।

जानकार बनकर हड़पे 17 हजार

सेक्टर 29 थाना पुलिस को दी शिकायत में राजीव सिंह ने बताया कि वह गांव सिवाह का रहने वाला है। 16 जनवरी की दोपहर को उसके मोबाइल फोन पर किसी की कॉल आई, जिसने उसे नाम लेकर पुकारा और कहा कि मैं तेरा जानकार बोल रहा हूं। मैंने किसी जानकार से 25 हजार रुपए लेने हैं। मैं आपके खाते में डलवा देता हूं। आप मुझे बाद में दे देना। उसने राजीव को अपनी बातों में उलझा लिया। इसके बाद उसने बैंक की ऐप पर पेमेंट का ऑप्शन भेज दिया।

ऑप्शन भेजने के बाद उसने कहा कि वह ओके के ऑप्शन पर क्लिक कर दे। क्लिक करते ही उक्त राशि सीधे उसके खाते में आ जाएगी। क्लिक करते ही उसके खाते से 10 हजार रुपए निकलने का मैसेज आया, जिसे राजीव ने सोचा कि वह उसके खाते में आए हैं। इसके बाद ठग ने एक और ऑपशन भेजा, जिस पर क्लिक करते ही उसके खाते से 7 हजार रुपए भी निकल गए। इसके बाद ठग ने कॉल डिस्कनेक्ट कर दी। उसने अपना खाता चेक किया तो वहां सिर्फ 58 रुपए बैलेंस मिला।

बैंककर्मी बन ठगे 30390 रुपए

सदर थाना पुलिस को दी शिकायत में राहुल ने बताया कि वह गांव बाबरपुर का रहने वाला है। 21 जनवरी को उसके फोन पर एक कॉल आई, जिन्होंने खुद को SBI क्रेडिट कार्ड विभाग से बताया। फिर उसकी तरफ से एक लिंक भेजा गया। जैसे ही उसने लिंक पर क्लिक किया तो उसके क्रेडिट कार्ड से 30,390 रुपए निकलने का मैसेज आ गया। इसके बाद उसने SBI क्रेडिट कार्ड की ऐप को खोल कर देखा तो पता लगा कि उसके साथ ठगी हुई है। ठगों ने फोन पे के माध्यम से उक्त राशि निकाली है।

जानकार बनकर ठगे 50998 रुपए

पुलिस को दी शिकायत में सुमित कुमार ने बताया कि वह गांव राक्सेडा का रहने वाला है। उसके पिता राजपाल अपने खेत में काम कर रहे थे। इसी दौरान उनके मोबाइल फोन पर एक कॉल आई। कॉल करने वाले खुद को राजकुमार बताया। उसने कहा कि हमने तुम्हें 3 साल से जमीन दे रखी है। मैंने अपने कुछ पैसे तुम्हारे खाते में डालने हैं, इसलिए अपना खाता नंबर दे दो। राजपाल उनकी बातों में आया गया और उसने अपने बेटे का नंबर दे दिया। ठग ने मुझे फोन किया और कहा कि तुम्हारे पिता ने नंबर दिया है। बातों में उलझाकर ठग ने सुमित से गूगल पे का नंबर ले लिया, जिसके माध्यम से उसने तीन बार में क्रमश: 29,999, 9999 व 11000 रुपए निकाल लिए।

खबरें और भी हैं...