कोरोना संकट / दिल्ली के सैंपलों की गुड़गांव की निजी लैबों में हुई जांच, पूरा रिकॉर्ड भी नहीं दे रहीं, 20 लैब को नोटिस

स्क्रीनिंग करते हुए स्वास्थ्यकर्मी स्क्रीनिंग करते हुए स्वास्थ्यकर्मी
X
स्क्रीनिंग करते हुए स्वास्थ्यकर्मीस्क्रीनिंग करते हुए स्वास्थ्यकर्मी

  • हरियाणा में एक दिन में सर्वाधिक 299 मरीज मिले, 1 की मौत
  • आईसीएमआर को लिखा पत्र, कहा- दिए गए पते पर मरीज नहीं मिल रहे
  • प्रदेश में संक्रमितों का आंकड़ा 2440 पर पहुंचा, 1055 ठीक हुए

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 05:38 AM IST

पानीपत. प्रदेश में सोमवार को कोरोनावायरस के 299 नए मरीज मिले हैं। यह एक दिन में मरीज मिलने का सर्वाधिक आंकड़ा है। इससे संक्रमितों की संख्या 2440 हो गई है। पिछले 24 घंटे में मिले मरीजों में गुड़गांव में सबसे ज्यादा 129 केस मिले हैं। वहां एक मौत भी हुई है। गुड़गांव में पिछले 10 दिन में 615 नए केस मिले हैं। 4 मौतें हुईं। गुड़गांव की कुछ प्राइवेट लैब ने मरीजों का डाटा गड़बड़ा दिया है। क्योंकि दिल्ली बेस्ड लैब के गुड़गांव में कई सेंटर खुले हैं, जिनमें कोरोना की जांच हो रही है। वहां से स्वास्थ्य विभाग को कोई रिपोर्ट नहीं दी जा रही है। यहां दिल्ली के भी सैंपल भेजे जा रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि लैब से जो एड्रेस दिए जा रहे हैं, वहां स्वास्थ्य विभाग को मरीज नहीं मिल रहे। मोबाइल नंबर भी रिसीव नहीं हो रहे। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग एसीएस राजीव अरोड़ा ने दिल्ली की 20 लैब को नोटिस जारी किया है। आईसीएमआर को पत्र लिखा है और केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग के सचिव से भी बातचीत की गई है। पत्र में कहा गया है कि पोर्टल पर जो डाटा जारी हो रहे हैं, उनमें भी गड़बड़ है। बताया गया है कि गुड़गांव की कुछ लैब भी हरियाणा के सैंपलों की जांच में देरी कर रही हैं। सूत्रों का कहना है करीब एक सप्ताह पहले मामला सरकार तक पहुंचा था। स्वास्थ्य विभाग के एसीएस व डीजी की टीम वहां इसलिए ही भेजी गई थी। राज्य में कुल 23 मौतों में 12 गुड़गांव व फरीदाबाद में हुई हैं। अब तक कुल 1055 मरीज ठीक हुए हैं।


इधर, हरियाणा ने खोला बॉर्डर तो दिल्ली ने कर दिया सील
हरियाणा ने सोमवार से अपने सभी बॉर्डर खोल दिए हैं। लेकिन अब दिल्ली सरकार ने अपने सभी बॉर्डर एक सप्ताह के लिए सील कर दिए हैं। इससे दिल्ली जाने के लिए अब भी पास की जरूरत होगी। प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज का कहना है कि जब हरियाणा ने बॉर्डर सील किए, तब दिल्ली सरकार ने नाराजगी जताई थी। अब केंद्रीय गाइडलाइन के अनुसार हमने बॉर्डर खोल दिए हैं। दिल्ली के बॉर्डर सील करने से एनसीआर के जिलों से दिल्ली आने-जाने वालों को परेशानी होगी। 

यहां मिले नए केस: गुड़गांव में 129, रोहतक में 32, सिरसा में 28, फरीदाबाद में 25, सोनीपत में 21, पलवल, कैथल में 11-11, भिवानी में 10, चरखी दादरी में 7, हिसार में 5, झज्जर व करनाल में 4-4, कुरुक्षेत्र, जींद में 3-3, नूंह, फतेहाबाद, पानीपत में 2-2 मरीज मिले। 
यहां ठीक हुए मरीज: पलवल में 3, पानीपत और सिरसा में 2-2 मरीज ठीक हुए हैं।

अब 14 के बजाय 10 दिन में डिस्चार्ज होंगे मरीज 
केंद्रीय गाइडलाइंस के मुताबिक, कोरोना मरीजों को 3 दिन बुखार न आने के बाद डिस्चार्ज किया जा सकता है। पहले 14 दिन अस्पताल में रखने का प्रावधान था। अब प्रदेश सरकार ने केंद्रीय गाइडलाइन के अनुसार, 10 दिन मरीज को डिस्चार्ज करने का फैसला लिया है। इनका दूसरा सैंपल 7वें दिन लेंगे, ताकि दो दिन में रिपोर्ट आने पर 10वें दिन डिस्चार्ज किया जा सके।

निजी अस्पताल में उपचार पर खुद खर्च उठाना होगा
स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोरोना मरीजों के उपचार के लिए सरकारी अस्पतालों में पूरी व्यवस्था की गई है, जहां पूरा खर्च सरकार कर रही है। इसके बावजूद यदि कोई मरीज किसी निजी अस्पताल में उपचार करवाना चाहते हैं तो उन्हें अपना खर्च स्वयं वहन करना होगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना