पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

केस दर्ज हाेने के बाद खुलासा:स्पेन से दाेस्त ने गैंगस्टर नीरज बवाना का गुर्गा बन फाइनेंसर से मांगी थी फिराैती

पानीपत15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • दाेस्त ने किया था मजाक
  • उच्च अधिकारियाें से सलाह लेकर केस काे किया जाएगा कैंसिल

दिल्ली के कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवाना गैंग का गुर्गा बनकर फाइनेंसर धर्मेंद्र राेहिल्ला से 10 लाख रुपए की फिराैती किसी बदमाश ने नहीं, बल्कि फाइनेंसर के दाेस्त भादड़ के नवीन ने ही मजाक करने के लिए मांगी थी। दाेस्त स्पेन में नाैकरी करता है। धमकी के बाद वह बताना भूल गया कि उसने मजाक किया था।

इधर, गैंगस्टर के नाम सुनते ही फाइनेंसर व उसका परिवार सहम गया। 22 दिन बाद एसपी से मिलकर माॅडल टाउन थाना में केस दर्ज करा दिया। जब पुलिस जांच करते हुए दाेस्त के घर पहुंची। तब उसने जाकर पता चला कि ये काेई धमकी नहीं, बल्कि मजाक था। माॅडल टाउन थाना एसएचओ याेगेश कटारिया ने कहा कि अब केस नहीं बनता। उच्च अधिकारियाें से सलाह लेकर केस काे कैंसिल किया जाएगा।

जाटल राेड पर अारके पुरम निवासी धर्मेंद्र राेहिल्ला बैंक से लाेन कराते हैं। धर्मेंद्र व नवीन ने 2012 में पानीपत के एक शिक्षण संस्थान में होटल मैनेजमेंट का कोर्स किया था। कोर्स पूरा कर दोनों ने एक साथ कुछ समय तक दिल्ली में ट्रेनिंग भी की थी। नवीन कुछ समय बाद स्पेन मे नौकरी करने के लिए चला गया तो दोनो के बीच कई सालाें तक बातचीत नहीं हुई। धर्मेंद्र ने अपना मोबाइल नंबर नहीं बदला था।

2 मई काे नवीन ने स्पेन के नंबर से धर्मेंद्र काे काॅल किया। मजाक के ताैर पर बनावटी आवाज निकाल अपने आपको गैंगस्टर नीरज बवाना गैंग का गुर्गा बताते हुए 10 लाख रुपए की रंगदारी मांगी।

दाे दिन में रुपए नहीं देने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी। फिर फाेन काट दिया। इसके बाद 25 मई काे धर्मेंद्र ने केस दर्ज करा दिया। इसके बाद नवीन ने धर्मेंद्र काे फाेन कर अपनी पहचान बताई और कहा कि काफी सालाें बाद बातचीत कर रहा था, इसलिए साेचा क्याें न मजाक कर लिया जाए। धर्मेंद्र ने बताया कि जब पता चला कि दाेस्त ने मजाक किया था, तब सांस में सांस आया। अब काेई कार्रवाई नहीं करानी।

खबरें और भी हैं...