• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Earlier, Assistant Commissioner Of Income Tax, Shakti Singh Had Achieved 587th Rank, Philanthropist Father Wanted Son To Become IPS, Then Continued Studies With Job, Now Got 480th Rank

शक्ति सिंह बोले- UPSC के लिए टारगेट पर फोकस जरूरी:इनकम टैक्स असिस्टेंट कमिश्नर हूं; पहले प्रयास में सफल रहा, लेकिन पिता चाहते थे IPS बनूं तो दोबारा तैयारी की, मिला 480वां रैंक

पानीपतएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा के पानीपत जिला निवासी शक्ति सिंह ने दूसरे प्रयास में UPSC एग्जाम पास करके इनकम टैक्स विभाग में असिस्टेंट कमिश्नर की नौकरी पाई। लेकिन समाजसेवी पिता अपने बेटे को IPS बनकर लोगों की सेवा करते देखना चाहते थे। इसलिए जॉब के साथ पढ़ाई जारी रखी। वीकएंड और सुबह के समय पढ़ाई करके इस बार 480वां रैंक हासिल कर लिया। दूसरे प्रयास में 587वां रैंक हासिल किया था। लेकिन सबसे जरूरी यह है कि 2 बार यूपीएससी क्लीयर किया और इसके लिए कड़ी मेहनत चाहिए। टारगेट पर फोकस होना चाहिए।

दूसरे प्रयास में मिला था 587वां रैंक

पानीपत जिले के इसराना ब्लॉक के गांव डिडवाडी निवासी शक्ति सिंह आर्य ने 2017 में UPSC की तैयारी शुरू की थी। अपने दूसरे प्रयास में उन्होंने 2019 की परीक्षा में 587वां रैंक हासिल किया था। जिसके बाद वह इनकम टैक्स विभाग में असिस्टेंट कमिश्नर के रूप में तैनात हुए। लेकिन इससे वह खुश नहीं थे और पिता भी आईपीएस बनाना चाहते थे तो तीसरी बार भी एग्जाम दिया।

समाजसेवी पिता का सपना पूरा करना था

शक्ति सिंह आर्य ने बताया कि उनके पिता राजबीर सिंह पोस्ट मास्टर हैं। पिता का अधिकतर समय समाज सेवा में गुजरता है। उनका सपना था कि मैं IPS अधिकारी बनकर अधिक से अधिक लोगों की सेवा करूं। जिसके लिए उन्होंने UPSC की तैयारी शुरू की। दूसरी प्रयास में सफलता तो मिली, मन मुताबिक नहीं। 587वां रैंक हासिल करके वह इनकम टैक्स विभाग में असिस्टेंट कमिश्नर बन गए। पिता का सपना पूरा करने के लिए जॉब के साथ पढ़ाई जारी रखी।

जब भी समय मिला केवल पढ़ाई की

असिस्टेंट कमिश्नर शक्ति सिंह ने बताया कि दूसरी बार में UPSC एग्जाम क्लियर करने के बाद उन्होंने नौकरी ज्वॉइन कर ली। मगर IPS अधिकारी बनने का सपना धुंधला नहीं होने दिया। वीकएंड और सुबह के समय पढ़ाई की। इसके अलावा जब भी समय मिला, केवल पढ़ाई को ही दिया। जिस कारण वह आज UPSC एग्जाम में 480वां रैंक हासिल कर पाए।

तीन भाई-बहनों में दूसरे नंबर के हैं शक्ति सिंह

असिस्टेंट कमिश्नर शक्ति सिंह आर्य के पिता राजबीर सिंह पोस्ट मास्टर हैं। मां सुनीता देवी हाउस वाइफ हैं। शक्ति सिंह आर्य तीन भाई-बहनों में दूसरे नंबर के हैं।

पढ़िए UPSC क्लीयर करने वाले हरियाणा के युवाओं की कहानी...

IAS बने राजेश मोहन की सफलता की कहानी:4 बार असफल हुए, पर हिम्मत नहीं हारी; सेल्फ स्टडी के साथ कोचिंग ली और डॉक्टरी छोड़ी और क्लीयर कर लिया UPSC

ममता यादव से जानिए, कैसे क्रैक करें UPSC:पहले प्रयास में क्लीयर कर लिया था एग्जाम, लेकिन रैंक सुधारने के लिए दिन में 12-12 घंटे पढ़ाई की और देशभर में मिला 5वां स्थान

शक्ति सिंह बोले- UPSC के लिए टारगेट पर फोकस जरूरी:इनकम टैक्स असिस्टेंट कमिश्नर हूं; पहले प्रयास में सफल रहा, लेकिन पिता चाहते थे IPS बनूं तो दोबारा तैयारी की, मिला 480वां रैंक

एक सवाल ने बनाया इशांत जसवाल को IAS:मल्टी नेशनल कंपनी में नौकरी कर रहे रिश्तेदार पूछते थे, 15 साल बाद कहां हो तुम? उन्हें जवाब देने के लिए क्लीयर किया UPSC

खबरें और भी हैं...