क्राइम / किसान ने जमीन बेचकर बैंक में जमा कराए 1 करोड़ 16 लाख रु., ठगों ने 48.47 लाख उड़ाए

प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  •  बैंक मैनेजर को शक हुआ तो फोन पर की पूछताछ, जिससे बचे 68 लाख रुपए 
  • फर्जी चेक से ये ट्रांजेक्शन पांच बार में महाराष्ट्र व यूपी के हाथरस की एक ब्रांच से हुए

दैनिक भास्कर

Mar 26, 2020, 05:35 AM IST

राई (सोनीपत) . कुंडली गांव के किसान की पत्नी के अकाउंट से 48.47 लाख की रुपए की ठगी का मामला सामने आया है। फर्जी चेक से ये ट्रांजेक्शन पांच बार में महाराष्ट्र व यूपी के हाथरस की एक ब्रांच से हुए हैं। जब बैंक मैनेजर को शक हुआ तो उसने किसान को सूचना दी। किसान सुभाष ने बताया कि उसने गांव की जमीन करीब 1 करोड़ 16 लाख रुपए में बेची थी। ये रुपए उसने पत्नी पूनम के बैंक आॅफ बडौदा के अकाउंट में जमा कराए थे। बैंक ने उसे एक चेकबुक दी थी।

उसकी पत्नी के अकाउंट से 11 से 23 मार्च के बीच 48 लाख 47 हजार 65 रुपए निकल गए। बैंक मैनेजर से सुभाष ने कहा कि उसने किसी को कोई चेक नहीं दिया है। सभी चेक उसके पास हैं। पुलिस ने किसान की पत्नी पूनम के बयान पर अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

बैंक आफ बड़ौदा के सहायक मैनेजर वेदप्रकाश ने बताया कि यूपी के हाथरथ के एक व्यक्ति ने फर्जी चेकबुक बनाकर इंडियन ओवरसीज व यूको बैंक के अपने अकाउंट में पैसे ट्रांसफर किए हैं। बैंक अारोपी की पहचान का प्रयास कर रहा है। यूको व इंडियन ओवरसीज बैंक से भी डिटेल ली जा रही है। एसएचओ रविंद्र कुमार ने कहा कि जिस ब्रांच से ट्रांजेक्शन हुए हैं, वहां की सीसीटीवी फुटेज निकाली जाएगी। पुलिस आरोपियों की पहचान का प्रयास करेगी।  

ग्राहक की गलती नहीं है तो बैंक जिम्मेदार : एक्सपर्ट  
एथिकल हैकर एवं साइबर एक्सपर्ट परितोष सिंह का कहना है कि अगर ग्राहक ने चेक नहीं दिया और फिर भी चेक के आधार पर ट्रांजेक्शन हुआ है। वो भी थर्ड पार्टी ने निकाला है होम ब्रांच से पैसे नहीं निकले हंै तो ऐसे मामले में सीधे तौर बैंक जिम्मेदार बनता है, क्योंकि इसमें ग्राहक की कोई गलती नहीं दिखती। उसने अपनी कोई जानकारी किसी से शेयर नहीं की है। ग्राहक को पूरा अधिकार है कि वह बैंक से अपने नुकसान का हर्जाना मांगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना