• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Farmers Going In Agitation, Victims Of Accident In Panipat, Doctors Doing Free Treatment, Preparations For Operation

किसान आंदोलन:आंदोलन में जा रहा किसान पानीपत में हुआ हादसे का शिकार, डॉक्टर कर रहे फ्री इलाज, ऑपरेशन की तैयारी

पानीपत2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अस्पताल में किसान मनदीप का हाल जानने पहुंचे समाजसेवी। - Dainik Bhaskar
अस्पताल में किसान मनदीप का हाल जानने पहुंचे समाजसेवी।
  • गोहाना पुल के पास ट्रैक्टर से गिरकर कैथल के किसान की रीढ़ की हड्‌डी में आया फ्रेक्चर
  • आयुष्मान भव अस्पताल के डॉक्टरों ने किया फ्री इलाज, अब ऑपरेशन की कर रहे है तैयारी

पानीपत के डॉक्टरों ने किसान आंदोलन में सहयोग दिया है। दिल्ली पेरलल नहर के गोहाना रोड पुल पर कैथल का किसान ट्रैक्टर से गिर गया। किसान की रीढ़ की हड्‌डी में फ्रेक्चर है। किसान का इलाज पुलिस लाइन के पास स्थित आयुष्मान भव अस्पताल में हो रहा है। किसान का अब तक का इलाज और आगे होने वाले ऑपरेशन के लिए डॉक्टरों ने कोई पैसा नहीं लिया है। डॉक्टरों की इस पहल की सभी सराहना कर रहे हैं।

कैथल निवासी मनदीप अपने गांव के लोगों के साथ ट्रैक्टर-ट्राली से दिल्ली बॉर्डर पर किसान आंदोलन में जा रहा था। पानीपत पहुंचने पर दिल्ली पेरलल नहर के गोहाना रोड पुल पर जाम मिला। मनदीप ट्रैक्टर से उतर कर जाम खुलवाने लगा। जाम से निकलने के बाद जब मनदीप ट्रैक्टर पर चढ़ने लगा तो पैर फिसलने से वह नीचे गिर गया। जिससे उसकी रीढ़ की हड्‌डी में फ्रेक्चर आया। साथी किसान मनदीप को पुलिस लाइन के पास स्थित आयुष्मान भव अस्पताल लेकर पहुंचे।

अस्पताल के डॉक्टर सुदीप सांगवान ने बताया कि वह, डॉ. SS सांगवान और डॉ. नागेंद्र प्रसाद किसान का इलाज कर रहे हैं। किसान आंदोलन में सहयोग के लिए उन्होंने किसान का पूरा इलाज फ्री करने का निर्णय लिया है। किसान की रीढ़ की हड्‌डी में फ्रेक्चर है। अभी सूजन होने के कारण ऑपरेशन नहीं किया जा सका। एक-दो दिन में ऑपरेशन किया जाएगा। सामान्य तौर पर इस प्रकार के इलाज में एक लाख रुपये तक का खर्चा आता है, लेकिन वह किसान का उपचार बिना किसी रुपये के करेंगे।

ठीक होने के बाद आंदोलन में पहुंचेंगे मनदीप
मनदीप ने अस्पताल के डॉक्टरों का आभार व्यक्त किया। मनदीप ने कहा कि ठीक होने के बाद वह किसान आंदोलन में जाएंगे। जब तक सरकार किसानों की मांग नहीं मान लेती तब तक वह बॉर्डर पर ही रहेंगे। सोमवार को एडवोकेट राम मोहन राय और दीपक कथूरिया किसान का हाल जानने अस्पताल पहुंचे।