रेप के 4 साल पुराना केस:फास्ट ट्रैक काेर्ट ने सुनाया फैसला- दाेषी की हरकत अंतरात्मा काे झकझाेर देने वाली है, 3 वर्षीय बच्ची से रेप किया, इसलिए 20 साल की सजा

पानीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

किला थाना एरिया के नूरवाला में 3 साल की बच्ची से रेप के 4 साल पुराने मामले में फास्ट ट्रैक काेर्ट ने गुरुवार काे दाेषी दरिंदे काे 20 साल के कारावास की सजा सुनाई है। उस पर 1.30 लाख रुपए जुर्माना लगाया गया, नहीं देने पर 1 साल की जेल अतिरिक्त काटनी हाेगी। यह फैसला फास्ट ट्रैक काेर्ट एवं अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुमित गर्ग ने सुनाया है। मामले में एक आराेपी काे बरी कर दिया गया।

सजा सुनाते वक्त काेर्ट ने कहा कि दाेषी की हरकत वाकई अंतरात्मा काे झकझाेर देने वाली है, क्याेंकि उसने मात्र 3 साल की बच्चे से रेप किया, इसलिए 20 साल की सजा सुना रहा हूं। घटना 5 नवंबर 2017 काे हुई थी। करीब 3 साल से यह केस फास्ट ट्रैक काेर्ट में चल रहा था।

दोषी अनिल ने शराब पीकर की थी वारदात

पुलिस काे दिए बयान में पीड़िता की मां ने बताया कि उसके घर के नीचे गाेदाम है। वह अपनी 3 साल की बेटी काे दूध पिलाकर कपड़े धाे रही थी। कुछ देर बाद देखा ताे बेटी घर पर नहीं थी। पड़ाेसी ने बताया कि आपकी बेटी काे सिंगला फैक्ट्री के गाेदाम का चाैकीदार अनिल गाेदाम की तरफ ले गया।

अनिल यूपी के हरदाेई जिले के मूंगा पूरवा गांव का रहने वाला है। तब मां फैक्ट्री के गाेदाम में पहुंची ताे वहां बच्ची के चिल्लाने की आवाज सुनाई दी। पास जाकर देखा ताे अनिल बेटी के साथ रेप कर रहा था। बेहाेश अवस्था में बच्ची काे अस्पताल में भर्ती करवाया। उसी दिन पुलिस ने अनिल और उसके साथी यूपी के कन्नाैज के सगरा निवासी धर्मेंद्र काे गिरफ्तार किया। अनिल ने पुलिस पूछताछ में बताया कि वह धर्मेंद्र के साथ शराब पी रहा था। वह बच्ची काे धर्मेंद्र के कमरे पर लेकर गया और नशे में रेप किया। धर्मेंद्र दरवाजे पर पहरा देता रहा। काेर्ट में सुनवाई के दाैरान धर्मेंद्र पर लगे आराेप साबित नहीं हुए। इसलिए उसे बरी कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...