पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुधार के प्रयास:बिजली मरम्मत के दिन फिक्स, रिहायशी में बुध-शनि व इंडस्ट्री एरिया में संडे को मेंटेनेंस

पानीपत6 दिन पहलेलेखक: नरेश मेहरा
  • कॉपी लिंक
पानीपत. बापाैली एरिया के 33 केवी सब स्टेशन सनाैली कलां में लाइनाें की मरम्मत करते बिजली कर्मचारी। - Dainik Bhaskar
पानीपत. बापाैली एरिया के 33 केवी सब स्टेशन सनाैली कलां में लाइनाें की मरम्मत करते बिजली कर्मचारी।
  • अब तय दिन पर लगेंगे बिजली के कट, मिलेगा छुटकारा
  • रिहायशी क्षेत्र में मरम्मत के लिए दिन बदलना पड़ा ताे पूछकर लेंगे फैसला
  • एचवीपीएन और यूएचबीवीएन ने तालमेल बनाकर किया काम

रिहायशी एरिया में बिजली लाइनों व ट्रांसफार्मरों की मरम्मत के लिए बुधवार और शनिवार का दिन तय किया गया है। वहीं, औद्याेगिक क्षेत्राें में रविवार के दिन ही बिजली लाइनाें व ट्रांसफार्मराें की मरम्मत हाेगी। उत्तर हरियाणा बिजली वितरण निगम के एमडी आईपीएस शशांक आनंद ने सभी बिजली आधिकारियाें काे यह निर्देश दिए हैं। इसके अलावा अगर किसी दिन मरम्मत करनी है तो संबंधित लोगों व आरडब्ल्यूए से पूछना पड़ेगा। इसके बाद ही बिजली सप्लाई काटी जा सकेगी। बिजली निगम के इस फैसले को बिजली व्यवस्था के बेहतर होने के रूप में देखा जा रहा है।

इस तरह से मरम्मत के लिए अगर बिजली काटी जाएगी तो कम से कम लोगों को पता होगा कि बिजली क्यों गई है और कब आएगी। कुल मिलाकर बिजली निगम के कर्मचारियों को जिम्मेदार बनाने के लिए यह फैसला लिया गया है। एक्सईएन सिटी वीके गाेयल ने बताया कि एमडी शशांक आनंद ने स्पष्ट निर्देश दे दिए हैं कि काेई भी बिजली अधिकारी अपनी सुविधा के अनुसार मरम्म्त नहीं करेगा। साथ ही परमिट लेने में अब किसी की मनमर्जी भी नहीं चलेगी। परमिट सिर्फ स्थानीय उपभाेक्ताओं की सुविधा के अनुसार ही लिया जाएगा।

सरप्लस के नुकसान काे बचाना ही लक्ष्य

बापाैली सब डिविजन के एसडीओ नरेंद्र जागलान ने बताया कि अब सिर्फ सरप्लस बिजली के नुकसान काे बचाना ही लक्ष्य है। एमडी ने निर्देश दिए हैं कि निगम के पास इस समय बिजली सरप्लस है। अगर बिजली बंद रहती है ताे इससे उपभाेक्ताओं काे परेशानी होती है। लाइनें ब्रेकडाउन होने के कारण सरप्लस बिजली उपभाेक्ताओं काे नहीं दे पा रहे हैं। इसका नुकसान निगम काे भी हाे रहा है, क्याेंकि सरप्लस बिजली व्यर्थ जाएगी ताे बिलिंग नहीं हाेगी। इसलिए लाइनाें की अच्छे तरीके से करते मरम्मत हुए अघोषित कटाें काे राेकना है।

इन 5 ठाेस कारणाें से परमिट के लिए दिनाेंं में हाे सकेगा बदलाव
1. किसी क्षेत्र में नया फीडर, नया पावर हाउस या नया ट्रांसफार्मर लगाया जाना है ताे उसके लिए परमिट के दिन में बदलाव िकया जा सकता है।
2. माैसम खराब हाेने, आंधी या तूफान में लाइनाें के टूटने पर मरम्मत के लिए दिन में बदलाव हाेगा।
3. रिहायशी क्षेत्र में आरडब्ल्यूए ने कहा कि उन्हें किसी सप्ताह में बुधवार या शनिवार काे बिजली की जरूरत है ताे दिन में परमिट में बदलाव हाे सकेगा।
4. इंडस्ट्रियल एरिया में कम समय के लिए परमिट लेना है ताे वह दाेपहर बाद मिलेगा। पूरे दिन के लिए सुबह के समय परमिट लेना पड़ेगा।
5. यूएचबीवीएन व एचवीपीएन काे आपसी तालमेल बनाना हाेगा।

परमिट एक-काम अनेक योजना के तहत हुआ काम

33 केवी सब स्टेशन सनाैली कलां में परमिट एक-काम अनेक याेजना के तहत लाइनाें व ट्रांसफार्मराें की मरम्मत हुई। यहां पावर हाउस में एचवीपीएन ने मरम्मत के लिए परमिट लिया था। एसडीओ नरेंद्र जागलान ने बताया कि एचवीपीएन काे अपने यार्ड पैनल, एचपाेल व हाेट पॉइंट जंफर बदलने समेत अन्य काम करने थे। टीम ने भी एचवीपीएन अधिकारियों से तालमेल बना फीडराें की भी मरम्मत की। मरम्मत में विशेष रूप से पूरी टीम काे लगा दिया, ताकि तय समय में लाइनाें के कमजोर पार्ट बदल दिए जाएं।

उपभाेक्ताओं काे लाभ पहुंचाना उद्देश्य: एसई

उपभाेक्ताओं काे बेहतर बिजली सप्लाई उपलब्ध कराना ही उद्देश्य है। साथ ही बिजली निगम काे भी लाभ पहुंचाने के लिए काम करने हैं। सभी एसडीओ काे कार्यप्रणाली से अवगत करवा दिया है। अब परमिट एक-काम अनेक याेजना के तहत लाइनाें की मरम्मत शुरू कर दी है। अघोषित कटाें काे अब नाममात्र लेकर आना है।-एसएस ढुल, एसई, बिजली निगम

खबरें और भी हैं...