पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मिशन एडमिशन:हायर एजुकेशन ने पाेर्टल से हटाई पहली मेरिट लिस्ट, आज दोबारा हो सकती है जारी

पानीपत4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फीस जमा करने की अंतिम तिथि 15 से बढ़ाकर 18 सितंबर की

डिपार्टमेंट ऑफ हायर एजुकेशन (डीएचई) ने कट ऑफ लिस्ट में हुई गड़बड़ी के कारण रविवार काे पाेर्टल से लिस्ट हटा दी है। विभाग ने फाइनल मेरिट लिस्ट जारी करने का नाेटिफिकेशन जारी कर दिया है। आज सुबह फिर से मेरिट लिस्ट जारी हो सकती है। वहीं, विभाग ने पहली मेरिट लिस्ट के आधार पर फीस जमा करने की अंतिम तिथि बढ़ाकर 18 सितंबर कर दी है। अब फाइनल मेरिट लिस्ट जारी हाेने के कारण हाई और लाे कट ऑफ की स्थिति साफ हाे सकेगी।

हरियाणा बाेर्ड और सीबीएसई द्वारा 12वीं के परीक्षा परिणाम जारी किए जाने के बाद उच्चतर शिक्षा विभाग ने 16 अगस्त से यूजी के लिए दाखिले की प्रक्रिया शुरू की थी। जिले के 14 राजकीय, एडिड और सेल्फ फाइनेंस काॅलेजों की 10860 सीटाें के लिए करीब 14 हजार बच्चाें ने आवेदन किए थे।आावेदन प्रक्रिया में शुरू से ही तकनीकी खामियां आ रही थीं। इसलिए विभाग ने दाे बार आवेदन की लास्ट डेट में भी बदलाव किया था। 6 सितंबर काे रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया काे लाॅक कर दिया था।

शेड्यूल के अनुसार 11 सितंबर काे विभाग ने पहली मेरिट लिस्ट जारी की। बीकाॅम, बीबीए सहित सभी वाेकेशनल काेर्स की हाई और लाे कट ऑफ लिस्ट अपने पाेर्टल पर अपलाेड की, लेकिन बीए की नहीं की। इस कारण स्टूडेंट्स इंतजार कर रहे थे। वहीं, पहली कट ऑफ लिस्ट के अनुसार फीस जमा करने की अंतिम तिथि 15 सितंबर थी।

नए सिरे से जारी किया जाएगा शेड्यूल : विभाग ने नए सिरे से फाइनल मेरिट लिस्ट अपलाेड करने की बात कही है। पहली लिस्ट में नाम आने वाले बच्चाें काे फीस जमा करने के लिए 3 दिन और दे दिए हैं। छात्र संगठन इनसाे ने भी इसकाे लेकर आवाज उठाई थी। विभाग ने दूसरी मेरिट लिस्ट 17 सितंबर काे जारी करने की जानकारी दी थी। पहली मेरिट लिस्ट के बाद अब दूसरी मेरिट लिस्ट कब जारी हाेगी, इसकाे लेकर स्टूडेंट्स संशय मंे हैं। विभाग भी अब शेड्यूल में बदलाव कर रहा है।

स्पाेर्ट्स की वेटेज नहीं मिल सकी थी बच्चाें काे
विभागीय सूत्राें के अनुसार बीए की कट ऑफ के साथ बाकी के काेर्स की कट ऑफ लिस्ट में काफी गड़बड़ी थी। अधिकतर बच्चाें काे स्पाेर्ट्स के 5 नंबर की वेटेज नहीं मिल सकी थी। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण था कि विभाग ने गेम्स फेडरेशन की वैध सूची काे पाेर्टल पर अपलाेड नहीं किया था। इस कारण टीम डाॅक्यूमेंट वेरिफिकेशन करते वक्त यह नहीं जांच पाई कि स्टूडेंंट्स ने जिस स्पो‌र्ट्स क्लब का प्रमाण-पत्र अपलाेड किया है, वह वैध है या नहीं। इसलिए उन्हाेंने यह अंक अपडेट नहीं किए थे।

खबरें और भी हैं...