पानीपत में बचाव के इंतजाम:रेमडे‌सिविर इंजेक्शन की कमी न हो इसलिए स्वास्थ्य विभाग ने मंगवाए 491 टीके और अजित्रोमाइसीन की 1000 टेबलेट

पानीपत5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा में कोरोना की तीसरी लहर का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। पानीपत जिले में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 4 प्रतिशत पर पहुंच गया है। धीरे-धीरे हालात भयावह हो रहे हैं। इन हालातों के बीच स्वास्थ्य विभाग अपनी तैयारियों में जुटा है। आइसोलेशन वार्ड के इंचार्ज को आइसोलेशन व आईसीयू वार्ड के लिए डॉक्टरों की ड्यूटी का रोस्टर तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं।

स्वास्थ्य विभाग ने मुख्यालय से 491 रेमडे‌सिविर इंजेक्शन मंगवाए हैं, ताकि दूसरी लहर की तरह इस बार मरीजों की इंजेक्शन की कमी से जान न जाए। कोविड मरीजों को दी जाने वाली अजित्रोमाइसीन की 1 हजार टैबलेट विभाग को मिली हैं। यह टैबलेट 500 एमजी की है। 200 एमजी की टैबलेट के लिए डिमांड भेजी जा चुकी है। फिलहाल स्वास्थ्य विभाग के पास 5000 पीपीई किट व मास्क स्टोर में हैं।

बच्चों के लिए आईसीयू वार्ड जल्द तैयार करने के निर्देश
पानीपत पीएमओ डॉ. संजीव ग्रोवर ने बच्चों के लिए आईसीयू वार्ड जल्द से जल्द तैयार करने के‌ निर्देश दिए हैं। आईसीयू वार्ड में 8 वेंटिलेटर लगाए जा रहे हैं। बच्चों के लिए 30 बेड पर ऑक्सीजन की सप्लाई की गई है। पीएमओ डॉ. संजीव ग्रोवर ने शुक्रवार को अपने कार्यालय में बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. रिचा व डॉ. वीरेंद्र ढांडा के साथ मीटिंग की। इमरजेंसी में ड्यूटी करने वाले डॉक्टरों को निर्देश दिए गए हैं कि जब भी कोई बाल रोग आता है तो तुरंत बाल रोग विशेषज्ञों को कॉल करके बुलाया जाए।

रेमडेसिविर की कालाबाजारी न हो, इसलिए तैयारी पुख्ता
कोरोना की दूसरी लहर में रेमडेसिविर के इंजेक्शन की करोड़ों रुपए की काला बाजारी हुई थी। इंजेक्शन की काला बाजारी करने वाले 6 आरोपी गिरफ्तार भी हुए थे। हजारों रुपए के ‌इंजेक्शन करोड़ों में बेचे गए थे। रेमडेसिविर न मिलने से कई लोगों की मौत हो गई थी। इसलिए विभाग पहले ही रेमडेसिविर का स्टॉक पूरा कर रहा है। इस बार ऐसी कालाबाजारी न हो, इसके लिए सभी तैयारी पुख्ता कर ली गई है।