पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पूर्व पार्षद हरीश शर्मा सुसाइड केस:काेर्ट ने पुलिस की जांच काे ही सही माना, बेटी अंजलि की याचिका को खारिज किया

पानीपत15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
, पूर्व पार्षद हरीश शर्मा सुसाइड केस में बेटी अंजलि की याचिका को खारिज किया - Dainik Bhaskar
, पूर्व पार्षद हरीश शर्मा सुसाइड केस में बेटी अंजलि की याचिका को खारिज किया
  • तत्कालीन एसपी मनीषा चाैधरी समेत 3 के खिलाफ दर्ज हुआ था केस

भाजपा नेता एवं पूर्व पार्षद हरीश शर्मा के नहर में कूदकर आत्महत्या करने के मामले में उनकी बेटी पार्षद अंजलि शर्मा काे काेर्ट से भी झटका लगा है। काेर्ट ने पुलिस की जांच (कैंसिलेशन रिपाेर्ट) काे सही मानते हुए बेटी की याचिका काे खारिज कर दिया। यह फैसला मंगलवार काे एसीजेएम मनाेज कुमार राणा ने दाेनाें पक्षाें काे सुनने और सबूताें काे देखने के बाद सुनाया है।

पिता की माैत के बाद बेटी ने पानीपत की तत्कालीन एसपी मनीषा चाैधरी, तहसील कैंप चाैकी के प्रभारी एसआई बलजीत सिंह और एसआई महाबीर सिंह के खिलाफ माॅडल टाउन थाना में आत्महत्या के लिए मजबूर करने का केस दर्ज कराया था। इस मामले में गृहमंत्री अनिल विज की दखल पर राेहतक रेंज के एडीजीपी संदीप खिरवार के नेतृत्व एक एसआईटी काे जांच साैंपी गई थी।

एसआईटी ने जांच में सभी आराेपियाें काे क्लीनचिट देते हुए 28 जनवरी काे काेर्ट में कैंसिलेशन रिपाेर्ट दायर की थी। कैंसिलेशन के खिलाफ बेटी अंजलि ने 26 मार्च काे काेर्ट में याचिका दायर की थी। जिसकाे खारिज कर दिया। आईपीएस मनीषा चाैधरी फिलहाल चंडीगढ़ शहर की एसएसपी ट्रैफिक एवं सिक्याेरिटी हैं।

एसआईटी ने मुख्य तथ्याें काे ही नजरअंदाज किया

बेटी अंजलि शर्मा ने कहा कि एसआईटी ने मुख्य तथ्याें काे ही नजरअंदाज किया है। हमारे ऊपर दर्ज केस में एसआई बलजीत शिकायतकर्ता था ताे वह सीआईए के साथ पकड़ने के लिए रेड कैसे कर सकता है। जहां से प्रताड़ना शुरू हुई। एसआईटी ने ऐसे कई तथ्याें काे नजरअंदाज किया। हम चाहते थे कि केस की दाेबारा जांच हाे। आगे क्या करेंगे, अभी साेचा नहीं है।

पूर्व पार्षद ने नहर में कूदकर दी थी जान

पार्षद अंजली का आराेप था कि 14 नवंबर 2020 काे दीपावली के दिन चाैकी इंचार्ज बलजीत व एसआई महाबीर फतेहपुरी चाैक पर मास्टर की दुकान के बाहर आए। दुकान के बाहर पटाखे रखे थे। पिता सामाजिक ताैर पर जनता का समर्थन देने गए थे। वहां विवाद हाेने पर चाैकी इंचार्ज ने हरीश शर्मा, उनकी बेटी समेत अन्य पर 11 धाराओं में केस करा दिया। यह केस एसपी मनीषा चाैधरी के दबाव में हुआ।

एसपी, चाैकी इंचार्ज व एसआई का दबाव रहा। 14 से 18 नवंबर तक पुलिस की गाड़ियां घेरा लगाकर खड़ी रहती थी। परेशान हाेकर पिता ने 19 नवंबर की सुबह नहर में कूदकर जान दे दी थी। बचाने कूदे राजेश शर्मा भी डूब गए थे। तब केस दर्ज हुआ था।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप किसी विशेष प्रयोजन को हासिल करने के लिए प्रयासरत रहेंगे। घर में किसी नवीन वस्तु की खरीदारी भी संभव है। किसी संबंधी की परेशानी में उसकी सहायता करना आपको खुशी प्रदान करेगा। नेगेटिव- नक...

    और पढ़ें