• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Lakhs Of Quintals Of Wheat Have Been Lying In The Open At The Purchasing Centers, Including The Drizzling, Grain Market With Blindness In Panipat On Friday Evening

मौसम ने अन्नदाता के माथे पर खींची चिंता की लकीरें:पानीपत में शुक्रवार शाम को अंधड के साथ हुई बूंदाबांदी, अनाज मंडी समेत क्रय केंद्रों पर खुले में पड़ा है लाखों क्विंटल गेहूं

पानीपत9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत अनाज मंडी में खुले में � - Dainik Bhaskar
पानीपत अनाज मंडी में खुले में �
  • ​​​​शुक्रवार शाम को धूल भरी आंधी के बाद हुई बूंदाबांदी, अनाज मंडियों में खरीद और उठान कम होने से अन्न का नुकसान

पानीपत में शुक्रवार शाम को धूल भरी आंधी के बाद बूंदाबांदी ने अन्नदाता के माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी। पानीपत में गेहूं खरीद के लिए कुल 12 केंद्र बनाए गए हैं। सभी अनाज मंडियों और क्रय केंद्र पर लाखों क्विंटल गेहूं खुले आसमान के नीचे पड़ा है। जिसमें से अधिकतर की बिक्री नहीं हुई है और बाकी का उठान नहीं हो पाया है। मौसम विभाग ने शनिवार को भी तेज हवाओं के साथ बूंदाबांदी की आशंका जताई है।

शाम के समय हवा के साथ उड़ा धूल का गुबार।
शाम के समय हवा के साथ उड़ा धूल का गुबार।

शुक्रवार शाम को पानीपत में पहली तेज हवाएं चलीं। हवाओं के साथ उड़ी धूल ने लोगों के परेशान किया। सड़क पर वाहनों चालकों को परेशानी हुई। इससे अधिक अनाज मंडी में गेहूं लेकर पहुंच रहे किसानों को परेशानी झेलनी पड़ी। आढ़तियों के पास इतना बारदाना भी नहीं है कि गेहूं को बोरों में भर सकें या ढक सके।

पानीपत में गेहूं खरीद के लिए कुल 12 केंद्र बनाए गए हैं। रोजाना सैकड़ों की संख्या में किसान गेहूं लेकर मंडी पहुंच रहे हैं, लेकिन समय से गेहूं की खरीद न होने और उठान न होने के कारण सभी 12 केंद्रों पर गेहूं के बोरों और ढेरी की भरमार है।

शुक्रवार शाम को अचानक मौसम बिगड़ा तो अन्नदाता चिंतित हो गया। आढ़तियों ने तिरपाल लेकर गेहूं की ढेरी और बोरों को ढकने का प्रयास किया। हालांकि तेज हवाओं के कारण बारिश का असर कम रहा। जिससे किसानों को कुछ राहत मिली। मौसम विभाग ने शनिवार को भी तेज हवाओं के साथ बारिश की आशंका जताई है।

DC ने किया क्रय केंद्रों का निरीक्षण
DC धर्मेंद्र सिंह ने शुक्रवार को गेहूं क्रय केंद्रों का निरीक्षण किया। उन्होंने मंडी आने वाले प्रत्येक किसान के गेहूं खरीदने और समय से उठान के आदेश दिए। DFSC सुभाष सिहाग ने बताया कि गुरूवार तक बबैल में 3487 मिट्रिक टन, बाबरपुर खरीद केंद्र पर 15003 मिट्रिक टन, बापौली में 15356, छिछडाना में 6617 मिट्रिक टन, इसराना में 19713 मिट्रिक टन, मडलौडा में 45265 मिट्रिक टन, नौल्था में 2036 मिट्रिक टन, पानीपत में 28983 मिट्रिक टन गेहूं की आवक हुई है। समालखा मंडी में 51293 मिट्रिक टन, सनौली में 3722 मिट्रिक टन, उरलाना में 1888 मिट्रिक टन गेंहू की आवक हुई है।