सजा:सुसर की हत्या कर 9 लोगों पर हमला करने वाले 2 भाई और चार भतीजों को उम्रकैद

पानीपत10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • हत्या के केस में 6 साल बाद आया कोर्ट का फैसला
  • एक शराब पीने का आदी था, बारुराम व उसके परिवार वाले इसी बात को लेकर करते थे बेइज्जती

सिवाह गांव में 70 वर्षीय बारूराम की हत्या कर बहू-बेटे समेत परिवार के 9 लोगों पर हमला करने वाले दोषी सगे दो भाई व 4 भतीजों को कोर्ट ने सोमवार को उम्रकैद की सजा सुनाई है। सभी पर 1.08 लाख रुपए का जुर्माना लगाया गया, नहीं देने पर उन्हें 6 माह की जेल अतिरिक्त काटनी होगी।

यह महत्वपूर्ण फैसला अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश हरबीर सिंह दहिया ने सुनाया है। सजा के बाद दोषी सिवाह गांव के महेंद्र पुत्र रिसाल सिंह, उसके भाई रोहतास, रोहतास के 3 बेटे विकास उर्फ विक्की, पवन, संदीप और अमित उर्फ मिता पत्र सतबीर को जेल भेज दिया गया।

सिवाह निवासी दर्शन ने पुलिस को बयान दिए थे कि 22 फरवरी 2015 की शाम करीब 7 बजे वह ससुर 70 वर्षीय बारूराम को घेर में छोड़ने के लिए जा रही थी। दोषी महेंद्र के घेर के सामने पहुंचे तो महेंद्र ने अपने भाई व भतीजों को बुला लिया। कुल्हाड़ी से बारूराम व दाह से दर्शन पर वारकर दोनों को घायल कर दिया। उनका घर पास में था, आवाज सुनकर दर्शन का पति सतबीर, बेटी ज्योति, बहन शकुंतला, उसकी दो बेटी रबीना व रिंकू, सास कलावती, चचेरा ससुर जीवनराम व देवर कृष्ण मौके पर आ गए। तभी दोषियों ने सभी पर हमला कर दिया।

लोगों के आने पर आरोपी जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए थे। अगले दिन रोहतक पीजीआई में बारूराम की मौत हो गई थी। पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। दोषी महेंद्र ने कबूला था कि वह शराब पीने का आदी है। इसी बात पर बारूराम व उसके परिवार वाले कई बार बेइज्जती कर चुके हैं। तब उसके मन पर काफी गिलानी थी।

खबरें और भी हैं...