बदलाव:21 दिन की ट्रेनिंग के बाद ही बन सकेगा लाइट व्हीकल ड्राइविंग लाइसेंस, नियम में हुअा बदलाव

पानीपत6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ड्राइविंग स्कूल का ट्रेनिंग प्रमाण-पत्र किया जरूरी - Dainik Bhaskar
ड्राइविंग स्कूल का ट्रेनिंग प्रमाण-पत्र किया जरूरी
  • हादसों के बढ़ते ग्राफ काे राेकने को परिवहन विभाग ने ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाने की प्रक्रिया में किया फेरबदल
  • ड्राइविंग स्कूल का ट्रेनिंग प्रमाण-पत्र किया जरूरी, फीस भी बढ़ाई, अब 3500 की जगह 7500 रुपए

सड़क हादसों के बढ़ते ग्राफ काे राेकने के लिए परिवहन विभाग ने लाइट व्हीकल जैसे कार, जीप आदि के ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाने की प्रक्रिया में बदलाव कर दिया है। अब इन वाहनों के लाइसेंस बनवाने से पहले 21 दिन की ट्रेनिंग जरूरी हाेगी। ट्रेनिंग सेंटर से मिले प्रमाण-पत्र के बाद ही ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

इसके साथ ही विभाग ने फीस भी बढ़ा दी है। पहले 3500 रुपए फीस अदा करनी पड़ती थी। अब 7500 रुपए चुकाने हाेंगे। जल्द ही नए नियम के तहत ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाना का काम शुरू कर दिया जाएगा। परिवहन विभाग ने ड्राइविंग लाइसेंस काे लेकर बदलाव कर दिया है। इसकाे लेकर ऑर्डर भी भेज दिए हैं। अब इस नियम के तहत ही हलके वाहनों के ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाएंगे।

विभाग की ओर से यह निर्णय इसीलिए लागू किया गया है ताकि सड़क पर वाहन चलाने वाले लाइसेंस धारी को यातायात नियमों का पूरा ज्ञान हो और सड़क हादसों की संख्या कम हो सके।

यातायात नियमाें का हाे ज्ञान

विभाग ने यह फैसला इसलिए लिया है कि ताकि लाइसेंस लेने के लिए आवेदन करने वाले लाेगाें काे यातायात नियमों के सिलेबस के पार्ट ए, बी, सी, एफ, जी और के का ज्ञान हो सके। साथ ही वह जिस वाहन के लिए आवेदन कर रहा है, उसे संबंधित वाहन चलाने का भी ज्ञान हाे।

लाइसेंस बनवाना और महंगा होगा

अब 21 दिन की ट्रेनिंग की शर्त लागू होने से लाइसेंस बनवाना और भी महंगा हो जाएगा। लाइसेंस बनवाने की प्रक्रिया में ट्रेनिंग फीस भी जुड़ जाएगी। हालांकि यह फीस कितनी होगी, यह अभी निर्धारित नहीं किया है। ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल से प्रमाण-पत्र मिलने के बाद ही ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाने की प्रक्रिया काे शुरू किया जाएगा।

ट्रेनिंग आवेदकों को करीब 4 हजार रुपए देने होंगे

वर्तमान में ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने की फीस 630 रुपए, रेडक्रॉस फीस 300 रुपए, मेडिकल फीस 150 रुपए, लर्निंग टेस्ट फीस 120 रुपए और परमानेंट लाइसेंस फीस के रूप में 1280 रुपए देने पड़ते हैं। वहीं 21 दिन की ट्रेनिंग के लिए ट्रेनिंग करवाने वालों को आवेदकों को करीब 4 हजार रुपए देने होंगे। ऐसे में अब तक लाइसेंस की पूरी प्रक्रिया जहां 3500 रुपए में पूरी होती थी, अब 7500 देने हाेंगे।

हर माह 700 बनाए जाते हैं ड्राइविंग लाइसेंस

पानीपत में करीब हर माह करीब 900 लाेग लाइट व्हीकल ड्राइविंग लाइसेंस के लिए अप्लाई करते हैं। कई लाेग ड्राइविंग टेस्ट में फेल हाे जाते हैं। कुछ दस्तावेज पूरे नहीं कर पाते हैं। इसलिए हर माह करीब 700 ड्राइविंग लाइसेंस बनाए जाते हैं।

ट्रेनिंग व्यवस्था शुरू करने के किए जा रहे हैं प्रयास

नए आदेश के मुताबिक अब 21 दिन की ट्रेनिंग जरूरी है। जब तक ट्रेनिंग व्यवस्था शुरू करने के लिए व्यवस्था करना शुरू कर दिया है। ट्रेनिंग शुरू हाेते ही नए नियम के तहत लाइसेंस बनाए जाना शुरू कर दिया जाएगा।
-सुशील, आरटीए सचिव

खबरें और भी हैं...