पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • Once In 1 Day It Used To Take 6000 Days, Now It Is Taking 1000 On Average, The Graph Of Vaccination Is Falling Continuously

टीके की कमी:कभी 1 दिन में 6000 डाेज लगती थीं, अब औसतन 1000 लग रहीं, लगातार गिर रहा टीकाकरण का ग्राफ

पानीपत23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत. नरेंद्र डिकाडला वैक्सीन लगवाते हुए। - Dainik Bhaskar
पानीपत. नरेंद्र डिकाडला वैक्सीन लगवाते हुए।
  • 18 से 44 उम्र वाले 5 लाख 39 हजार 240 लोगों काे लगनी हैं डाेज

पानीपत में युवाओं काे वैक्सीन न मिलना विभाग के लिए लगातार परेशानी का कारण बनता जा रहा है। क्याेंकि पानीपत में 18 से 44 उम्र वाले 5 लाख 39 हजार 240 जनसंख्या काे डाेज लगनी हैं, लेकिन 29 दिनाें में सिर्फ 46 हजार 665 काे ही वैक्सीन लगी है। जाेकि इस उम्र की जनसंख्या के हिसाब से देखें ताे सिर्फ 8.65 फीसदी है।

इसी आबादी काे टीका लगाने में सबसे ज्यादा परेशानी आ रही है, क्याेंकि राज्य सरकार से डाेज किस्ताें में मिलती हैं और एक या 2 दिन में फिर खत्म हाे जाती हैं। युवाओं काे कहां शुरुआत में 4 से 5 हजार डाेज एक दिन में लग रही थी, अब 50 से 500 तक आ गई। पहले इन एज की कैटेगरी में लिए 20 से 25 सेंटर बनाए, लेकिन अब एक से 5 सेंटराें पर ही टीकाकरण हाेता है।

अब जिले में सिर्फ 18 प्लस के लिए 100 डाेज स्टाॅक में बची हैं। वहीं, 45 प्लस के लिए 10 हजार से ज्यादा का स्टॉक मौजूद है, 2500 डाेज और जिले काे अलाॅट हाे गई। शनिवार रात तक 18 प्लस तक की काेई डाेज रिसीव नहीं हुई। अगर इसी गति से टीकाकरण चला ताे सवा साल में जाकर टीके लगेंगे। राेजाना जिले का वैक्सीनेशन ग्राफ गिरता जा रहा है।

1 जनवरी से शहर में कई कैंप लगाए गए, जब लोग तैयार हुए तो वैक्सीन ही गायब

तारीख- टीकाकरण
20 मई- 2764
21 मई- 2411
22 मई- 2419
23 मई- 350
24 मई- 4539
25 मई- 2787
26 मई- 744
27 मई- 1963
28 मई- 1187
29 मई- 1213

यह कमी खलेगी: युवाओं के लिए सिर्फ दाे बार मैगा वैक्सीनेशन कैंप लगे

युवाओं के लिए एक महीने में सिर्फ दाे बार ही मेगा वैक्सीनेशन कैंप लगा है। जबकि 16 जनवरी से लेकर अब तक 12 से ज्यादा बार 45 प्लस के लिए वैक्सीनेशन कैंप लगे थे। 45 प्लस के लिए हर साेमवार और मंगलवार काे मेगा वैक्सीनेशन कैंप लगते थे। हर बार 3 से 4 हजार लाेगाें काे डाेज लगाई जाती थी, रूटीन में भी राेजाना 500 से लेकर 1500 डाेज इसी कैटेगरी में लग रही हैं।

45 प्लस वालाें ने 58 दिनाें में 49 फीसदी ने डाेज लगवाई है। क्याेंकि उनके लिए डाेज लगातार केंद्र सरकार से आ रही हैं। जिले में 45 से ज्यादा उम्र की जनसंख्या 2 लाख 69 हजार 620 है। इसमें से 1 लाख 29 हजार 926 काे डाेज लग चुकी हैं।

खबरें और भी हैं...