चार विशेष रेलगाड़ियों से भेजे गए हजारों श्रमिक / प्रदेश की उन्नति में प्रवासी श्रमिकों का उल्लेखनीय योगदान: सीएम

मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्‌टर। फाइल मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्‌टर। फाइल
X
मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्‌टर। फाइलमुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्‌टर। फाइल

  • कहा- चार विशेष रेलगाड़ियों से भेजे गए हजारों श्रमिक

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:31 AM IST

पानीपत. सीएम मनोहर लाल ने कहा है कि हरियाणा राज्य की उन्नति व विकास में प्रवासी श्रमिकों का उल्लेखनीय योगदान है इसलिए कोविड-19 वैश्विक महामारी के चलते राज्य सरकार द्वारा इच्छुक प्रवासी श्रमिकों को उनके गृह राज्यों में पहुंचाने के लिए रोजाना विशेष श्रमिक रेलगाड़ियों को प्रदेश के विभिन्न रेलवे स्टेशनों से चलाया जा रहा है और इसी श्रृंखला में 22 मई को हरियाणा से चार विशेष श्रमिक रेलगाड़ियों को भेजा गया है।

सीएम ने बताया कि अम्बाला से एक रेलगाड़ी के माध्यम से लगभग 1600 प्रवासी श्रमिकों को कटिहार (बिहार), भिवानी से 1460 से अधिक प्रवासी श्रमिकों को कटिहार (बिहार), पानीपत से 1400 प्रवासी श्रमिकों को मुजफ्फरपुर   (बिहार) तथा गुड़गांव से लगभग 1400 प्रवासी श्रमिकों को दीमापुर (नागालैंड) भेजा गया है। विविधताओं के बावजूद हम सब देशवासी एक हैं और इसी भावना व सोच के साथ हरियाणा सरकार ने लॉकडाउन में फंसे और अपने घर जाने के इच्छुक प्रवासी श्रमिकों को हरियाणा सरकार के खर्च पर उनके गृह राज्यों में भिजवाने की शुरूआत की है। देश के किसी भी भाग में रहने वाले सभी भारतीय एक हैं और इनकी दुख-तकलीफ को दूर करना हम सब भारतीयों का दायित्व है।

सीएम ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग से सभी खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रकों को दिए दिशा-निर्देश

सीएम ने जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रकों को निर्देश दिए कि शेष पात्र लाभार्थियों को डिस्ट्रेस राशन टोकन के वितरण की प्रक्रिया में तेजी लाएं। लाभार्थियों को बिना किसी परेशानी के दुकानों से मुफ्त राशन मिले। प्रदेश में अब तक 486124 डीआरटी  वितरित किए गए हैं और इस योजना से 1290847 लोगों को लाभ मिला है। सीएम ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले विभाग की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। सीएम ने कहा कि हालांकि प्रदेश में राशन कार्ड धारकों को अप्रैल, मई और जून का दोगुना राशन मिल रहा है, लेकिन कई प्रवासी परिवार ऐसे हैं जिनके पास राशन कार्ड नहीं हैं। ऐसे परिवार भोजन से वंचित न रहें, जैसा कि मुख्यमंत्री द्वारा वायदा किया गया था, यह सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश सरकार ने उन्हें डीआरटी के माध्यम से राशन उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है। पहली बार पात्र लाभार्थियों को डीआरटी वितरित करने के लिए लोकल कमेटियों का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि राशन डिपो पर पर्याप्त मात्रा में राशन उपलब्ध कराया गया है और डीएफएससी यह सुनिश्चित करें कि डिस्ट्रेस राशन टोकन के साथ राशन डिपो में आने वाले लोगों को बिना किसी असुविधा के राशन मिले। वे पहले ही प्रतिबद्ध हैं कि प्रदेश में कोई भी गरीब भूखा नहीं सोएगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना