समालखा नगर पालिका चुनाव:6:13 बजे तक 69.3 प्रतिशत मतदान संपंन; छौक्कर के मैदान छोड़ने से बदलेंगे समीकरण

पानीपत6 महीने पहले
बूथ-18 राजकीय प्राथमिक पाठशाला माता मंदिर रोड पर वोटिंग के लिए लाइन में लगीं महिलाएं।

हरियाणा के पानीपत जिला के समालखा नगर पालिका चुनाव संपंन हो गए। चुनाव 6:13 बजे तक सभी 34 बूथों पर कुल 21588 वोट डली। जबकि कुल मतदाताओं की संख्या 31,141 है। यानि कुल 69.3 प्रतिशत मतदान हुआ है। सबसे ज्यादा मतदान भारतीय शिक्षण संस्थान पोलिंग बूथ पर 84.23 प्रतिशत हुआ। जबिक सबसे पटवार घर गांधी कॉलोनी मतदान केंद्र पर 42.34 प्रतिशत मतदान हुआ है।

सभी 34 बूथों की पेटियों को भापरा रोड स्थित मतगणना केंद्र के स्ट्रांग रुम में रखवाया गया है। कमरे को सील कर दिया गया है। 22 जून को मतगणना होगी, तब तक स्ट्रांग रुम पुलिस व सीसीटीवी कैमरे की निगरानी में रहेगा। स्ट्रांग रुम नगरपालिका समालखा चुनाव के पर्यवेक्षक सुजान सिंह यादव (आईएएस) की उपस्थिति में सील किया गया है।

आईएएस सुजान सिंह की उपस्थिति में स्ट्रांग रुम को सील करते अधिकारी।
आईएएस सुजान सिंह की उपस्थिति में स्ट्रांग रुम को सील करते अधिकारी।

वहीं समालखा नगर पालिका चुनाव में प्रधान पद के लिए आम आदमी पार्टी के कैंडिडेट भरत सिंह छौक्कर ने मतदान के बीच आजाद उम्मीदवार संजय बेनीवाल को समर्थन देने का ऐलान कर दिया। छौक्कर ने आम आदमी पार्टी पर अपनी अनदेखी का आरोप लगाते हुए कहा कि मतदान केंद्रों के बाहर कोई AAP कार्यकर्ता नहीं दिखे। वह अकेले सुबह से दोपहर तक व्यवस्था संभालते रहे। पार्टी के रवैये से आहत होकर ही उन्होंने बेनीवाल को समर्थन देने का ऐलान किया। बाद में आम आदमी पार्टी ने भी उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधि में संलिप्त बताने का आरोप लगाते हुए निष्कासित कर दिया।

बता दें कि समालखा नगर पालिका में प्रधान पद के लिए 8 उम्मीदवार और 17 वार्डों के पार्षद पद के लिए 56 प्रत्याशी किस्मत आजमा रहे हैं। इसमें बड़ी बात यह है कि चुनावी मैदान में पहली बार 3 ट्रांसजेंडर भी उतरे हैं। पालिका के 31,141 वोटर विधायक, पूर्व विधायक से लेकर कई अन्य दिग्गजों की राजनीतिक भविष्य की आज परीक्षा ली। शांतिपूर्ण चुनाव के लिए 17 ड्यूटी मजिस्ट्रेट, 6 सेक्टर ऑफिसर और 550 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी पर तैनात थे। 34 मतदान केंद्र बने थे। शनिवार को ही सभी पोलिंग पार्टियां अपने गंतव्य स्थान पर पहुंच चुकी है। रविवार सुबह 7 से शाम 6:13 बजे तक वोट डाले जाएंगे।

व्हील चेयर पर बैठ कर मतदान केंद्र पर सभी औचारिकताएं पूरी करते बुजुर्ग।
व्हील चेयर पर बैठ कर मतदान केंद्र पर सभी औचारिकताएं पूरी करते बुजुर्ग।

शाम 6 बजे तक जो भी लाइन में खड़े रहे, उनको 6 बजे के बाद भी वोट डालने का अधिकार मिला। 19 अति संवेदनशील बूथों पर पुलिसकर्मियों की अत्याधिक तैनाती की गई है। शांतिपूर्ण चुनाव के लिए 17 ड्यूटी मजिस्ट्रेट, 6 सेक्टर ऑफिसर और 550 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई है।

34 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। शनिवार को ही सभी पोलिंग पार्टियां अपने गंतव्य स्थान पर पहुंच चुकी है। रविवार सुबह 7 से शाम 6 बजे तक वोट डाले जाएंगे। शाम 6 बजे तक जो भी लाइन में खड़े होंगे, उनको 6 बजे के बाद भी वोट डालने का अधिकार होगा। 19 अति संवेदनशील बूथों पर पुलिसकर्मियों की अत्यधिक तैनाती की गई है।

बूथ पर अनूठी लेखन विधि।
बूथ पर अनूठी लेखन विधि।

बूथ नंबर 21, 22 और 23 पर अनूठी लेखन विधि

एसडीएम एवं रिटर्निंग अधिकारी अश्वनी मलिक ने बताया कि सभी मतदान केंद्रों पर दिव्यांग मतदाताओं की सुविधा के लिए प्रत्येक ड्यूटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से व्हील चेयर उपलब्ध करवाई है। कोई भी दिव्यांग पुरुष-महिला या अन्य कोई बुजुर्ग जो मतदान केंद्र के अंदर जाने में असमर्थ होगा उन्हें व्हील चेयर उपलब्ध करवाई जाएगी। वहीं, चुनाव को रोचक बनाने के लिए बूथ नंबर 21, 22 व 23 पर अनूठी लेखन विधि से विभिन्न बूथ दर्शाए गए हैं।

चुनाव की पूर्व संध्या पर सभी दस्तावेज चेक करते एसडीएम अश्वनी मलिक।
चुनाव की पूर्व संध्या पर सभी दस्तावेज चेक करते एसडीएम अश्वनी मलिक।

राजनेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर

यह चुनाव कई राजनेताओं के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बना हुआ है। विधायक धर्मसिंह छौक्कर की साख चुनाव में लगी है। चेयरमैन के प्रत्याशी पूर्व विधायक भरत सिंह छौक्कर का राजनीतिक करियर भी इसी चुनाव पर निर्भर है। भाजपा जिला अध्यक्ष डॉ. अर्चना गुप्ता और उनकी टीम ने कितना काम किया है, यह भी दिखेगा। इसका भी फैसला होगा कि भाजपा को लोग स्वीकार कर पाते हैं या नहीं। जजपा के नेता देवेंद्र कादियान भी समालखा विधानसभा में अपनी जमीन तैयार करने में लगे हैं। यह चुनाव उनकी राजनीति पर भी असर डालेगा।