अग्निपथ के विरोध में कांग्रेसियों का सत्याग्रह:बुल्ले शाह बोले- चार साल की नौकरी के बाद भाजपा कार्यालयों में जॉब करेंगे नौजवान

पानीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लघु सचिवालय के सामने एलिवेटिड एक्सप्रेस के नीचे धरने पर बैठे कांग्रेसी। - Dainik Bhaskar
लघु सचिवालय के सामने एलिवेटिड एक्सप्रेस के नीचे धरने पर बैठे कांग्रेसी।

सेना भर्ती के लिए केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में आज से देशभर में विरोध प्रदर्शन शुरू किया गया है। प्रदर्शन का नाम सत्याग्रह दिया गया है। हरियाणा के पानीपत जिले में लघु सचिवालय के सामने एलिवेटिड एक्सप्रेस के नीचे आज सुबह से ही कांग्रेसी धरने पर बैठे हैं। धरना शांतिपूर्वक तरीके से किया जा रहा है। धरने में सैंकड़ों की संख्या में कांग्रेसी शामिल हुए हैं। पानीपत धरने की अगुवाई कांग्रेसी नेता बुल्ले शाह कर रहे हैं। धरना दोपहर 1 बजे तक रहेगा।

धरने में बैठे कांग्रेसी इसराना हल्के के विधायक बलबीर व अन्य।
धरने में बैठे कांग्रेसी इसराना हल्के के विधायक बलबीर व अन्य।

कृषि कानून की तरह अग्निपथ योजना भी होगी वापिस: बुल्ले शाह

बुल्ले शाह ने कहा कि कांग्रेस अग्निपथ योजना को लागू करने के तुगलकी फरमान को वापस लेने की मांग कर रही है। सत्याग्रह देशभर में चल रहा है। युवाओं का हक दिलवाने के लिए प्रदर्शन किया जा रहा है। सरकार युवाओं को 4 साल बाद सेना से रिटायर्ड करने के बाद बीजेपी कार्यालय में नौकरी देंगी। जोकि हम नहीं होने देंगे।

सेना की वर्दी देने के बाद महज चार साल बाद ही युवाओं से ले ली जाएगी। जोकि नहीं होने दिया जाएगा। सरकार ने पहले तीन कृषि कानून वापिस लिए हैं। अब युवा शक्ति के सामने भी सरकार झुकेगी और ये योजना भी वापिस लेगी। पूरा देश इस योजना का विरोध कर रहा है। सत्ताधारी हर प्रदर्शन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदारी ठहराती है। जबकि सच्चाई ये है कि सरकार के तुगलकी फरमान का हर कोई पूरजोर विरोध करता है।

11 लाख की पेंशन से तो सिर्फ शादी ही हो पाएगी

समालखा विधायक धर्मसिंह छौक्कर के भाई कंवर सिंह ने कहा कि कांग्रेस हर उस युवा के साथ खड़ा है जोकि शांतिपूर्वक अपना विरोध जाहिर करेगा। सरकार को देश की धरोहर यानि सेना को नहीं छेड़ना चाहिए था। बेशक सरकार ने किसी भी महकमे का निजीकरण कर दिया हो। मिल्ट्री सभी की है। जय जवान-जय किसान के नारे को सरकार ने मजाक बना दिया है।

वहीं, इस बारे में कांग्रेस के अन्य नेताओं ने कहा कि अगर सरकार ने अवसर ही देने है तो उन सभी जगहों पर भर्ती करें, जो लंबे समय से खाली पड़ी है। 18 साल का लड़का सेना में भर्ती हो गया है। 22 साल में वह रिटायर्ड होकर वापिस घर आ गया। उसके परिजन रिश्ते वालों को कहेंगे कि हमारा लड़का रिटायर्ड हो कर आया है।

अगर वह रिटायर्ड होने के बाद शादी करने लगेगा तो 11 लाख की पेंशन से तो सिर्फ शादी ही होगी। चार साल की नौकरी के बाद देश में सिर्फ आंतकवाद का माहौल बढ़ेगा। बेरोजगार होने के बाद युवा अपराध की ओर ही बढ़ेगा। इस योजना से युवाओं का आत्मबल भी कमजोर होगा।