भास्कर खास:16 दिन के अभियान में 11.70 लाख लोगों की स्क्रीनिंग की, मात्र 56 टीबी मरीज मिले

पानीपत6 महीने पहलेलेखक: गोविंद सैनी
  • कॉपी लिंक
पानीपत. अभियान के दाैरान मरीजाें की टीबी की स्क्रीनिंग करते हुए। - Dainik Bhaskar
पानीपत. अभियान के दाैरान मरीजाें की टीबी की स्क्रीनिंग करते हुए।
  • 2023 तक समालखा-मतलाैडा काे टीबी फ्री बनाने का लक्ष्य

पानीपत में टीबी उन्मूलन पर फोकस है। पानीपत में 15 सदस्यों की टीबी फोरम बनी है। स्लम बस्तियों में मरीज ढूंढे जा रहे हैं। जिले में 12 जुलाई से 27 जुलाई तक घर-घर जाकर टीबी मरीजाें की तलाश की गई। विभाग ने इन 16 दिनाें में 12 लाख 61 मरीजाें की स्क्रीनिंग करने का लक्ष्य रखा था। इसमें से 11 लाख 70 हजार लोगों की स्क्रीनिंग की गई। इसमें मात्र 0.004 फीसदी यानी सिर्फ 56 मरीजाें में टीबी की पुष्टी हुई। मरीजाें में टीबी के लक्षण मिलने पर उनकी बलगम जांच व एक्स-रे भी कराए गए थे।

जिला नोडल अधिकारी डॉ. आशीष ने बताया कि पानीपत में 2023 तक समालखा व मतलाैडा काे टीबी फ्री ब्लाॅक बनाने का लक्ष्य रखा है। अब पानीपत टीबी मुक्त की ओर है। लाेगाें में जागरूकता आई है। मरीज अब दवा का काेर्स भी पूरा कर रहे हैं।

जिले में तीन स्थानों पर बलगम की जांच
सिविल अस्पताल में सीबी-नॉट मशीन है। सब डिविजनल अस्पताल समालखा और सीएचसी मतलौडा में ट्रू-नेट मशीन लगी है। सभी सरकारी फैसिलिटी सेंटर से एकत्र बलगम के सैंपल की जांच यहीं होती है।

रोगी तलाशने पर मिलता है भत्ता

  • 500 रु. मासिक भत्ता मरीज को।
  • 1 हजार रुपए भत्ता पॉजिटिव मरीज को तलाशने पर।
  • 300 रुपए मरीज ढूंढने वाले सामान्य व्यक्ति को।
  • 5 हजार रुपए एमडीआर मरीज को दवा खिलाने वाले वर्कर को।
खबरें और भी हैं...