पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • The Families Of The Victim Victims Put Their Help On The Social Media For Help, Cyber Thugs Do Not Give Delivery With Money

सचेत रहें:काेराेना पीड़ित के परिजन मदद के लिए साेशल मीडिया पर पाेस्ट डालते हैं, साइबर ठग रुपए लेकर नहीं देते डिलीवरी

पानीपतएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अब ठग सबसे ज्यादा काेराेना के नाम पर लाेगाें काे ठग रहे, पुलिस ने जारी की एडवाइजरी

काेराेना संक्रमित अपनाें काे बचाने के लिए साेशल मीडिया का इस्तेमाल कर मदद मांग रहे लाेगाें के लिए पुलिस ने एडवाइजरी जारी की है। पुलिस ने कहा कि साइबर ठगाें ने साेशल मीडिया पर डाली गई ऐसी पाेस्ट काे ठगने का जरिया बना लिया है। मदद के बहाने ऑनलाइन रुपए ट्रांसफर करा लेते हैं और फिर माल की डिलीवरी नहीं करते।

डीएसपी हेडक्वार्टर सतीश कुमार वत्स ने बताया कि कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के कारण इन दिनों बेड, ऑक्सीजन, इंजेक्शन आदि की खोज में लोग सोशल मीडिया का उपयोग सर्वाधिक कर रहे हैं। लाेग अपने नंबर व अन्य निजी जानकारी साेशल मीडिया पर डाल देते हैं। मैसेज देखकर साइबर ठग लाेगाें से संपर्क करते हैं और उनकाे जरूरतमंद सामान दिलाने का भराेसा दिलाते हैं।

भराेसा जीतकर वे लाेगाें से जरूरतमंद सामान की डिलीवरी करने के लिए रुपए की डिमांड करते हैं। रुपए मिलने के बाद डिलीवरी नहीं करते। जब काेई महिला साेशल मीडिया पर पाेस्ट करती है ताे साइबर ठग उनकाे भी शिकार बनाते हैं। उनकाे अश्लील काॅल, मैसेज, वीडियाे आदि भेज सकते हैं या उनकी निजी जानकारी का गलत प्रयाेग किया जा सकता है।

रिश्तेदार बनकर खुद काे काेराेना संक्रमित बताते हैं, फिर करते हैं ठगी

इसके अलावा नजदीकी रिश्तेदार बनकर अपने आपकाे काेराेना संक्रमित बताते हैं। इससे बचने के उपाय बताने के लिए मैसेज भेजकर लिंक पर क्लिक कर देखने को बाेलते हैं। लिंक पर क्लिक करते ही ठगाें के पास बैंक खाते से संबंधित सारी निजी जानकारी चली जाती है और ठग खाते की सारी राशि को निकाल लेते है।

ठग साेशल मीडिया पर विभिन्न प्रकार के विज्ञापन डालकर भी ठगते हैं

इन दिनाें ठगाें ने नए फिसिंग अभियान को चलाया हुआ है। इसमें ठग सोशल मीडिया पर विज्ञापनाें के माध्यम से फ्राॅड एप्लीकेशनाें काे प्रमाेट करते हैं। जब यूजर इन पर क्लिक करते हैं तो एक फाइल अपने आप डाउनलोड हो जाती है, जिसमें मालवेयर होता है। जो यूजर की निजी जानकारी को चुरा लेता है। इससे ठग आपकी निजी जानकारी चुरा लेते हैं।

आप लाेग ये सावधानी बरतें

  • कोविड-19 संबंधित सहायता प्राप्त करने के लिए सोशल मीडिया पर मोबाइल नंबर या व्यक्तिगत विवरण साझा करते समय सतर्क रहें।
  • अज्ञात को अग्रिम भुगतान करने से पहले जांच कर लें।
  • अगर आप इस तरह से साइबर ठगों का शिकार होते हैं तो तुरंत cybercrime.gov.in पर शिकायत दर्ज कराएं।
  • अज्ञात द्वारा भेजे गए यूआरएल डोमेनस पर क्लिक ना करें।
  • किसी भी अज्ञात स्त्रोत से प्राप्त ई-मेल फाइल्स को खोलने से बचें।
  • माेबाइल में एंटी-वायरस का प्रयोग करें।
खबरें और भी हैं...