• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • The Industrialist Put The Meds Through The Med Provider Company, The Company Took 47 Thousand As Advance, Stole 50 Thousand Meds In The Very First Night

पानीपत में एक लाख में पड़ी एक दिन की नौकरानी:उद्याेगपति ने प्रोवाइडर कंपनी के माध्यम से लगाई मेड, एडवांस के रूप में कंपनी ने लिए 47 हजार, पहली ही रात में 50 हजार मेड चोरी कर ले गई

पानीपत4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चोरी और ठगी की आरोपी नौकरानी। - Dainik Bhaskar
चोरी और ठगी की आरोपी नौकरानी।
  • पीड़ित ने ऑनलाइन कंपनी सर्च करने के बाद बुलाई थी नौकरानी, सिटी पुलिस थाने में दर्ज कराया केस

पानीपत के एक उद्याेगपति को ऑनलाइन कंपनी के माध्यम से काम पर रखी गई नौकरानी से पहले दिन ही काम कराना लाखों में पड़ गया। नौकरानी को काम पर छोड़ने से पहले कंपनी ने चार महीने के एडवांस और सिक्योरिटी के रूप में 47 हजार रुपए ले लिये। काम करने आई नौकरानी अगली सुबह ही उद्याेगपति के घर से 50 हजार रुपए लेकर फुर्र हो गई। पीड़ित ने कंपनी में फोन किया तो वह अभद्रता करने लगे। उद्योगपति ने तीन के खिलाफ सिटी थाने में केस दर्ज कराया है।

तहसील कैंप के रामनगर निवासी एक उद्योगपति ने बताया कि उन्हें नौकरानी की जरूरत थी। न मिलने के पर उन्होंने ऑनलाइन मेड प्रोवाइडर कंपनी सर्च की। उन्हें दिल्ली के मोहन गार्डन स्थित मुस्कान मेड ब्यूरो के नाम से एक कंपनी मिली।

कंपनी वालों ने मेड उपलब्ध कराने की हां भर ली। मंगलवार को विशाल गुप्ता और रंजीत नाम के युवक रोजलिया मिंज नाम की नौकरानी को लेकर उनके घर पहुंचे। युवकों ने खुद को कंपनी का मालिक बताया। नौकरानी को काम पर रखने से पहले युवकों ने 8 हजार रुपए प्रति महीना के हिसाब से 4 महीने का एडवांस और 15 हजार रुपए सिक्योरिटी के मांगे।

उन्होंने वह रुपए दोनों युवकों को दे दिये। दोनों युवक नौकरानी को छोड़कर चले गए। नौकरानी ने दिन में काम किया और रात को सो गई। सुबह उठे तो नौकरानी नहीं मिली। अलमारी में रखी 50 हजार की नकदी भी गायब मिली। CCTV चेक किए तो नौकरानी बुधवार सुबह 5:24 बजे घर से निकलती हुई दिखाई दी।

आधार कार्ड, एग्रीमेंट, कंपनी रजिस्ट्रेशन, पुलिस वैरिफिकेशन सभी नकली
उद्योगपति ने बताया कि नौकरानी को रखने से पहले उन्होंने सभी कागज मांगे थे। युवकों ने नौकरानी का झारखंड के एड्रेस का आधार कार्ड, कंपनी का रजिस्ट्रेशन, एग्रीमेंट और पुलिस वैरिफिकेशन दिया। अब नौकरानी के भागने पर उन्होंने कागज चेक कराए तो सभी नकली निकले।

गूगल से नंबर लेते हैं तो बरतें सावधानी
उद्यमी ने मेड प्रोवाइडर कंपनी का नंबर गूगल से लिया था। अब पड़ताल की तो कंपनी भी फर्जी निकली। यदि आप भी किसी भी ऑनलाइन काम के लिए गूगल से नंबर सर्च करते हैं तो सावधानी बरतें। आप जिस कंपनी का नंबर गूगल पर सर्च करते है तो सबसे पहले उसकी कंपनी के हूबहू साइट बनाकर ठगों ने अपने नंबर डाल रखे हैं। कंपनी के नंबर के स्थान पर आप उस कंपनी की अधिकारिक बेवसाइट पर जाकर नंबर सर्च कर सकते हैं।