बिना बारिश के एनएच-48 पर लंबा जाम:सिर्फ पानी नहीं यहां गड्‌ढों ने रोकी है हाइवे की रफ्तार

धारूहेड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली-जयपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बिना बारिश के ही लंबा जाम देखने को मिल रहा है। यह जाम आमतौर पर जयपुर से दिल्ली जाने वाली साइड पर धारूहेड़ा फ्लाईओवर के आसपास लगता था, लेकिन शुक्रवार रात्रि से ही यह दिल्ली से जयपुर की तरफ सहाबी पुल और उसके आसपास बने बड़े-बड़े गड्ढों की वजह से ट्रैफिक की धीमी गति और वाहनों के दबाव की वजह से लगना शुरू हो गया, जो शनिवार को पूरे दिन बना रहा।

हाइवे पर लगे लंबे जाम की वजह से वाहन चालकों को बहुत ही परेशानी का सामना करना पड़ा। इस जाम के हालात यह थे की हाइवे के साथ ही सर्विस लाइन भी पूरी तरह जाम नजर आई इसी समस्या को देखते हुए वाहन चालकों ने आसपास के गांव से भी निकलने की कोशिश की जिससे की इन गांव की गलियों में भी जाम लगने शुरू हो गए. रेवाड़ी की तरफ जाने वाले वाहन चालकों ने धारूहेड़ा पुलिस थाने के पास से जा रहे सेक्टर रोड, गांव खरखड़ा, नंदरामपुर बास रोड, राजपुरा, खटावली, भट्साना, निखरी व औद्योगिक क्षेत्र आदि से होकर रेवाड़ी की तरफ जाने के लिए रास्ता चुना।

हाइवे पर लगे लंबे जाम की स्थिति यह रही की सुबह कंपनियों में नौकरियों व कामकाजी लोग जाम में फंस पूरी तरह परेशान नजर आए। इसी दौरान वीकेंड होने पर दिल्ली से जयपुर, मुंबई, अजमेर आदि को घूमने जाने वाले लोगो की तादाद अधिक देखने को मिली जो अपने निजी वाहनों से परिवार सहित घंटों तक जाम मे फसे एनएचएआई की कार्यप्रणाली और व्यवस्था को कोसते नजर आए। जिला रेवाड़ी पुलिस ट्रैफिक पुलिस द्वारा जाम से निपटने के लिए पूरे प्रबंध किए गए थे जिसको लेकर पुलिस कर्मचारी वाहनों को सहाबी पुल से निकालते नजर आए। वहीं विद्यार्थी भी जाम की वजह से 3 से 4 घंटा देरी से स्कूल पहुंचे।

^हाइवे पर बने गड्ढों और सहाबी पुल के क्षतिग्रस्त होने से वाहनों की गति धीमी हो जाती है जिससे कि धीरे धीरे हाइवे से गुजरने वाले वाहन एक कतार के रूप में लंबे जाम में तब्दील हो जाते हैं ट्रैफिक पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद हो जाम को खुलवाने का प्रयास करती है लेकिन वाहनों की अधिकता की वजह से परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। विजयपाल, ट्रैफिक पुलिस इंचार्ज धारूहेड़ा।

हाइवे पर लगने वाले जाम के कई कारण हो सकते हैं सहाबी पुल पर ट्रैफिक का धीमा होना भी एक कारण है जहां बने गड्ढों को भरने और रिपेयर करने के लिए टीम को बोला हुआ बोल दिया है जल्द ही इस समस्या का समाधान हो जाएगा।-अजय कुमार, आर्या प्रोजेक्ट डायरेक्टर एनएचएआई जयपुर डिविजन।

खबरें और भी हैं...