रेवाड़ी नप हाउस की मीटिंग में हंगामा:9 दुकानों से अतिक्रमण हटाने को लेकर होना था एजेंडा पास; पार्षदों का वॉकआउट

रेवाड़ी4 महीने पहले
रेवाड़ी नगर परिषद हाउस की मीटिंग में आपस में उलझते हुए पार्षद।

रेवाड़ी नगर परिषद हाउस की मीटिंग में बुधवार को जबरदस्त हंगामा हो गया। ज्यादातर पार्षद भाई-भतीजावाद समाप्त करने की बात कर वॉकआउट कर गए। जिससे एजेंडा पास नहीं हो सका।

दरअसल, नगर परिषद हाउस की मीटिंग शहर के रेलवे रोड पर बनी 9 दुकानों का अतिक्रमण हटाने को लेकर बुलाई गई थी। इन दुकानों का विवाद काफी सालों से चला आ रहा है। चूंकि यह जगह तहबजारी के तहत ली गई थी। बाद में इस जगह पर ही दुकान बना दी गई। 2014 में सरकार ने तहबजारी बंद कर दी।

पार्षदों को समझाने की कोशिश करती चेयरपर्सन।
पार्षदों को समझाने की कोशिश करती चेयरपर्सन।

जिसके बाद कुछ दुकानदार कोर्ट पहुंच गए। अब शहर में दुकानों के साथ नाले बनाए जा रहे है। ऐसे में नगर परिषद का कहना है कि ये तहबजारी की जगह दी, जिसपर दुकान बनाकर अतिक्रमण किया गया है। इसी अतिक्रमण को लेकर आज एजेंडा पास होना था। इसके अलावा सांवरिया प्रिटिंग प्रैस फर्म से विज्ञापन के टेंडर की राशि ब्याज सहित वसूलने का प्रस्ताव रखा गया था।

हाउस की मीटिंग में चेयरपर्सन पूनम यादव के अलावा नगर परिषद के तमाम अधिकारी और पार्षद पहुंचे, लेकिन कुछ देर बाद ही बैठक में हंगामा शुरू हो गया। पार्षदों ने एजेंडा नंबर एक पर एतराज जताया और सवाल खड़े करते हुए काफी हंगामा किया।

हाउस से वॉकआउट करते पार्षद।
हाउस से वॉकआउट करते पार्षद।

भाई-भतीजावाद खत्म होना चाहिए

हाउस की मीटिंग में पार्षद लोकेश यादव ने कहा कि अतिक्रमण हटाने में भाई-भतीजावाद खत्म होना चाहिए। अकेले रेलवे रोड ही नहीं, बल्कि पूरे शहर में अतिक्रमण हो रहा है। ऐसे में सभी जगह बगैर भेदभाव के कार्रवाई होनी चाहिए। कुछ पार्षदों ने कहा कि किसी व्यक्ति विशेष को टारगेट कर कार्यवाही नहीं होनी चाहिए।

पार्षद के आरोप पर बिफर पड़े अन्य पार्षद

अतिक्रमण हटाने को लेकर रखे गए प्रस्ताव को पास कराने के लिए जब हस्ताक्षर की बारी आई तो काफी पार्षद इसके खिलाफ दिखे। इस बीच वार्ड नंबर 25 से पार्षद मोनिका ने सीधे सवाल खड़ा कर दिया कि जो पार्षद साइन नहीं करते। मतलब दाल में कुछ काला है। इसके बाद पार्षद बिखर गए और फिर वॉकआउट कर बाहर निकल गए। जिसकी वजह से बैठक रद्द हो गई।