खाद की मारामारी:25 हजार बैग यूरिया मिला, जल्दी दूसरा रैक आने की उम्मीद

मंडी अटेली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

अटेली क्षेत्र में यूरिया की आवक अब लगातार बढ़ रही है। शुरू में तो यूरिया की काफी किल्लत देखने को मिल रही थी। किसानों को लंबी लाइनों में लगना पड़ रहा था, लेकिन अब मार्केटिंग सोसायटी अटेली के बाद प्राइवेट डीलर भी यूरिया ले आये हैं। अटेली क्षेत्र के विष्णु ट्रेडिंग ने 25 हजार बैग आरसीएफ के बैग मंगवाए हैं। इन्हें अनेक खाद-बीज विक्रेताओं को वितरित किया गया है।

उन्होंने बताया कि इसके बाद यूरिया का एक ओर रैक लग रहा है। यूरिया की कमी के चलते आधार कार्ड व दूसरी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद वितरण किया जा रहा था। इसके लिए किसान महिलाओं के साथ अपने बच्चों को कतारों में लगा रहे थे। यूरिया के बैग क्यूसीआई डॉ. संजय कुमार व कृषि अधिकारियों द्वारा तस्दीक करने के बाद किसानों को बड़ी मुश्किल से मिल रहे था।

बता दें कि डीएपी बीजाई से पूर्व खेत में फसल को मजबूत करने के लिए छिड़काव किया जाता है वही यूरिया खाद का छिड़काव फसल के अंकुरित होने के बाद इसका खेतों में छिड़काव होता है। उन्होंने बताया कि अटेली क्षेत्र में किसी प्रकार यूरिया की खाद की कमी नहीं रहने दी जाएगी। मार्केटिंग सोसायटी के स्थानीय प्रबंधक गोकुलचंद दायमा ने बताया कि आईपीएल यूरिया के 4 हजार के बैग की वितरण हो चुका है। इस समय डीएपी की तो जरुरत नहीं है, लेकिन यूरिया की सरसों व गेहूं की फसल में अंकुरित होने के बाद छिड़काव की जरूरत होती है जो फसल को ताकत प्रदान करता है।

खबरें और भी हैं...