पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चुनाव की तैयारी:अटेली नपा के 5 वार्डों में उप-चुनाव होने के आसार, बढ़ी सरगर्मी

मंडी अटेली8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रदेश सरकार के प्रधान सचिव द्वारा अटेली नगरपालिका के 5 पार्षदों को 5 माह पहले अयोग्य ठहाराए जाने के बाद अब स्टेट चुनाव आयोग ने कस्बे के सभी वार्डों की मतदाता सूची तैयार करने का शेड्यूल तैयार जारी किया है। मतदाता सूची तैयार करने का शेड्यूल जारी होने के साथ ही कस्बे में नगरपालिका उपचुनाव की तैयारियां शुरु हो गई हैं। इससे पदमुक्त हुए 5 पार्षदों में खलबली मच गई है।

बता दें कि 11 वार्डों वाली अटेली नगरपालिका के चुनाव 13 मई 2018 को हुए थे। परंतु चुनाव के बाद पार्षदों में आपसी खींचतान के चलते लंबे समय तक नगरपालिका प्रधान का चुनाव नहीं हो सका था। जब 8 बैठकों के बाद भी प्रधान नहीं बन पाया था तो नगरपालिका का एक्ट का प्रयोग कर बैठकों में लगातार गैर हाजिर चल रहे वार्ड 3 से अश्वनी, वार्ड 4 से संजय गोयल, 7 से अजय मुदगिल, 8 से जितेंद्र सिंहल तथा 9 से सुनीता को सरकार के प्रधान सचिव ने 22 मई को 2020 को इन पार्षदों को पद मुक्त कर दिया था। उसके बाद 5 जून को सांसद व विधायक द्वारा अपना वोट प्रयोग कर कस्बे के नए चेयरमैन का चुनाव किया था। जिनमें जितिन अग्रवाल अटेली का नपा का 22वां प्रधान बन पाया तथा स्नेहलता उपप्रधान बन पाई थी। अब अटेली नगरपालिका में पांच माह से अधिक समय से 5 वार्ड पार्षदों के पद रिक्त होने के कारण राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश पर मतदाता नई मतदाता सूची

तैयार करने का शेड्यूल जारी हो गया हैं

मतदाता सूची का प्रथम प्रकाशन 26 अक्टूबर के बाद अंतिम प्रकाशन 27 नवंबर को होगा। यह कार्रवाई शुरू होने से पदमुक्त किए गए पार्षदों की बहाली की उम्मीद एक तरह से खत्म हो गई हैं। अगर प्रदेश चुनाव आयोग के हिसाब से काम हुआ तो कस्बे में एक बार फिर 11 में से 5 पार्षदों के उप चुनाव हो सकते हैं।

डीसी के आदेश पर प्रक्रिया अमल में लाई जा रही है
नपा सचिव प्रदीप कुमार ने बताया कि राज्य सरकार के नई गाइडलाइन के अनुसार जिला उपायुक्त के आदेश पर प्रक्रिया अमल में लाई जा रही है। कनीना के एसडीएम व रिवीजन अथारिटी रणवीर सिंह ने बताया कि मतदाता सूची के पुनरीक्षण नगर पालिका व तहसील कार्यालय में स्थापित किए गए वोटर इनफॉर्मेशन एंड कलेक्शन सेंटर (वीआईसीसी) बना दिया हैं। राज्य चुनाव के निर्देश पर मतदाता सूची प्रक्रिया अपनाई जा रही हैं। भारत का हर नागरिक स्वतंत्र हैं, उसे अपनी बात रखने का पूरा अवसर दिया जाता हैं।

खबरें और भी हैं...