शहादत:शहीद बेदपाल को छुड़ानी में 3 वर्षीय बेटेे व भाई ने दी मुखाग्नि

बादली9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • बेदपाल सीआरपीएफ में हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात थे

गांव छुड़ानी में रविवार सुबह शहीद बेदपाल का पार्थिव शरीर पहुंचा। सैनिक का पार्थिव शरीर जैसे ही गांव में पहुंचा पूरा गांव शहीद सैनिक अमर रहे के नारों से गूंज उठा। दुल्हेड़ा गांव के बस स्टैंड से सैनिक बेदपाल के पार्थिव शरीर को पूरे राजकीय सम्मान के साथ छुड़ानी ले जाया गया। शहीद के भाई समुद्र ने बताया कि बेदपाल की हृदय गति रुकने के कारण निधन हुआ है। बेदपाल परिवार में सब के साथ मिलनसार थे। उनकी दो बेटियां व एक बेटा है।

बेदपाल सीआरपीएफ में हेड कांस्टेबल के पद पर तैनात थे। वे वर्तमान में छत्तीसगढ़ के बीजापुर में तैनात थे। 2001 में सेना में भर्ती हुए थे। रविवार सुबह उनका पार्थिव शरीर गांव में पहुंचा तो पूरा गांव उनकी अंतिम यात्रा में शामिल हुए। ग्रामीण तिरंगा यात्रा निकालते हुए उनके पार्थिव शरीर को श्मशान घाट तक ले गए। जहां तीन वर्षीय बेटे नीरज व भाई समुद्र ने उनको मुखाग्नि दी। शस्त्र उल्टे कर व फायर कर जवान को सीआरपीएफ के जवानों ने अंतिम सलामी दी। अंतिम यात्रा में बहादुरगढ़ के तहसीलदार व बादली डीएसपी अशोक कुमार, थाना प्रभारी बाबूलाल, भाजपा जिलाध्यक्ष व्रिकम कादियान, सरपंच सत्यवान उर्फ सत्य के अलावा अन्य सामाजिक व राजनीतिक लोग मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...