पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदोलन का 46वां दिन:सरकार से तारीख पर तारीख मिलने से नाराज युवा किसानों ने टिकरी बाॅर्डर पर अर्द्धनग्न होकर ठंड में किया प्रदर्शन

बहादुरगढ़7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नाराज युवा किसानों ने टिकरी बार्डर पर अर्द्धनग्न होकर ठंड में प्रदर्शन किया। - Dainik Bhaskar
नाराज युवा किसानों ने टिकरी बार्डर पर अर्द्धनग्न होकर ठंड में प्रदर्शन किया।

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का आंदोलन आज 46वें दिन और भी जोर शोर से शुरु हो गया जब पिछले चार दिनों में पंडाल में कम हो रही किसानों की संख्या में शनिवार को फिर से तेजी से इजाफा होना शुरु हो गया। पर अब तक गतिरोध खत्म होता नहीं दिख रहा है। किसानों को मनाने के लिए शुक्रवार को हुई आठवें दौर की वार्ता को फिर से 15 जनवरी की अगली तारीख मिल गई है। किसान बिल वापसी से कम पर राजी नहीं हैं, जबकि सरकार संशोधन को तैयार है व बिल वापसी पर मना कर रही है।

इसी कारण शनिवार को सुबह तारीख पर तारीख मिलने से नाराज युवा किसानों ने टिकरी बार्डर पर अर्द्धनग्न होकर ठंड में प्रदर्शन किया व सरकार को होश में आने की सलाह दी। वहीं आज पंडाल से 26 जनवरी की तैयारी के लिए सभी किसानों को तैयार रहने को कहा गया है जिससे 26 को होने वाला प्रदर्शन में देश के किसान पूरी ताकत के साथ सरकार के सामने अपनी गुहार लगा सकें।

किसानों ने स्टेज से किसानों को दिल्ली में हुई जानकारी के बारे में बताया कि आठवें दौर की बैठक के बाद केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कह दिया है कि किसान संगठन अगर तीनों कृषि कानून वापस लेने के अलावा कोई विकल्प देंगे तो हम बात करने को तैयार हैं। आंदोलन कर रहे लोगों का मानना है कि इन कानूनों को वापस लिया जाए, लेकिन देश में बहुत से लोग इन कानूनों के पक्ष में हैं। किसान नेताओं ने टिकरी बार्डर पर बैठे किसानों को बताया कि इस तरह से साफ हो रहा है कि सरकार किसानों को बार बार गुमराह करके उनके सब्र का इम्तहान ले रही है।

सरकार की मंशा पर भरोसा नहीं

किसानों ने कहा कि सरकार के साथ वार्ता के बाद भारतीय किसान यूनियन के नेताओं ने कहा कि कानून निरस्त होने से पहले किसान सरकार की मंशा पर भरोसा नहीं कर पा रहे और न ही करना चाहिए। इस कारण किसान भी बातचीत को जारी रखेंगे व फिर से 15 तारीख को सरकार के साथ बैठक करेंगे। किसानों ने कहा कि कुछ लोग अफवाह फैला रहे हैं कि किसान अपने घर वापस जाने लगे हैं तो स्टेज पर वह भी साफ किया गया कि व लोग कहीं भी नहीं जा रहे। किसान केवल नए कृषि कानूनों को निरस्त करना चाहते हैं। अभी तारीख पर तारीख चल रही है। बैठक में सभी किसान नेताओं ने एक आवाज में बिल रद्द करने की मांग की थी। हम चाहते हैं बिल वापस हो, सरकार चाहती है संशोधन हो। सरकार ने हमारी बात नहीं मानी तो हम भी सरकार की बात नहीं मान रहे। इसके साथ ही किसानों को 26 जनवरी की रैली के लिए तैयारी शुरु करने को कहा गया। इस दौरान कड़ाके की ठंड के बावजूद किसानों ने अर्द्धनग्न होकर अपना विरोध जताया। वहीं किसानों ने अब 15 जनवरी को फिर से बैठक की तैयारी भी शुरू कर दी है।

विधायक गीता भुक्कल ने ढासा बॉर्डर पर दिया किसान आंदोलन का समर्थन

केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए किसान विरोधी कानूनों के खिलाफ ढासा बॉर्डर पर चल रहे आंदोलन में झज्जर से विधायक गीता भुक्कल व शहर के अन्य सामाजिक संगठनों ने समर्थन दिया। गीता भुक्कल ने यहां किसानों के बीच में पहुंचने के बाद किसान जिंदाबाद के नारे लगाए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार जब तक इन किसान विरोधी कानूनों को वापस नहीं लेगी तब तक आंदोलन कर रहे किसान भाइयों के साथ पूर्ण रूप से समर्थन रहेगा। विधायक ने कहा कि भाजपा सरकार से मौजूदा समय में हर वर्ग के लोग परेशान हैं।

सरकार की ओर से रोजगार बढ़ाने की वजह नौकरियां छीनने का काम किया जा रहा है। इस मौके पर झज्जर यादव सभा के प्रधान वीरेंद्र दरोगा, उपप्रधान संजय यादव, गुर्जर सुधार समिति राष्ट्रीय अध्यक्ष सुभाष गुर्जर, एसीपी राजबीर जाखड़, पूर्व पार्षद शिशुपाल मलिक, पूर्व पार्षद नाहर यादव, डॉ. सुनील जाखड़, आजाद भदानी, संतराम नम्बरदार, एडवोकेट माया व अन्य साथी मौजूद रहे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां आपके स्वाभिमान और आत्म बल को बढ़ाने में भरपूर योगदान दे रहे हैं। काम के प्रति समर्पण आपको नई उपलब्धियां हासिल करवाएगा। तथा कर्म और पुरुषार्थ के माध्यम से आप बेहतरीन सफलता...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser