पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • Bahadurgarh
  • As The Heat Increased, The Vegetable Of The Dharna Started Falling Less, Along With The People Of The Villages Are Now Giving Land To The Farmers For Harvesting.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

किसान आंदाेलन:गर्मी बढ़ते ही धरने के लंगर में कम पड़ने लगी थी सब्जी, साथ गांवों के लोग किसानों को पैदावार के लिए दे रहे अब जमीन

बहादुरगढ़12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • टिकरी बॉर्डर पर किसान आंदाेलन का 130वां दिन
  • किसानों का प्रदर्शन जारी, 10 अप्रैल को केएमपी 24 घंटे रहेगा जाम

तीन कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का दिल्ली के टिकरी बॉर्डर पर धरना चार महीने से चला हुआ है। पर अब किसानों ने सब्जी की कमी के चलते किसानों के खेतों में खुद ही सब्जी की फसल पैदा करने का काम शुरू कर दिया है। इसके लिए यहां के किसानों ने पंजाब के किसानों को अपनी जमीन देनी भी शुरू कर दी है। वैसे पंजाब से आ रहे किसानों की बढ़ती संख्या को देखते हुए उनके खाने पीने के लिए लंगर की व्यवस्था की जा रही है। सर्दी के मौसम में सब्जियों की भरमार थी, लेकिन जैसे ही गर्मी शुरू हुई वैसे हो सब्जियों की दिक्कत होने लगी।

वहीं एक स्थानीय किसान ने धरने पर बैठे किसानों के लिए अपनी जमींन सब्जियों उगाने के लिए मुफ्त में दे दी है। पंजाब से आये किसानों ने उसके खेत की जुताई कर सब्जियां उगाने की तैयारी कर दी है। खेत मे उगने वाली सब्जियों को किसानों को फ्री के दी जाएगी। किसान धरने पर पंजाब के अमृतसर से आये किसान बिजेंद्र सोढी ने बताया कि हमारा किसानों का धरना दिल्ली बॉर्डर पर 26 नवंबर को यहां आये थे। जिसे चार महीने से ज्यादा का समय हो गया है। हजारों की संख्या में पंजाब से किसान धरने पर बैठे हुए है। हरियाणा के किसानों ने पंजाब से आये किसानों की खूब सेवा की है उन्होंने फ्री दूध,खाने पीने के लंगर से सेवा की है। हमारा पंजाब हरियाणा के भाई चारा मज़बूत हुआ है। सर्दी के समय मे सब्जियों की कमी नही थी लेकिन गर्मी के सब्जियों की कमी शुरू हो गई। यहां के एक बालौर गांव के किसान ने अपने खेत धरने पर बैठे किसानों के लिए सब्जी उगाने के लिए मुफ्त में दे दी है।

धरना रहेगा तब तक बोएंगे सब्जी

केंद्र सरकार के तीन कृषि कानूनों के विरोध में हम बैठे हुए है। वहीं नारायण सिंह यादव किसान ने कहा कि मेरे खेत पंजाब से आये किसानों के धरने के निकट होने के कारण अब उनके साथ मलकर सब्जी पैदा करेंगे। पंजाब हरियाणा का भाईचारा 1966 से पहले भी था और आज भी है। जिसे मजबूत करने के लिए इन किसानों की मदद के लिए मैंने अपने खेत इन्हें मुफ्त में सब्जियां उगाने के लिए दे दिए है इन्होंने अपने ट्रैक्टरों से खुद जुताई भी कर दी है। जब तक धरना चलेगा ये मेरे में खेत मे सब्जियां उगाकर किसानों के लिए फ्री में देंगे।

कोई सोनीपत गया तो कोई टिकरी बाॅर्डर पर बैठे रहा किसान

किसानों का एफसीआई कार्यालयों पर धरना देने के मामले में सोमवार को बहादुरगढ़ के किसान झज्जर तो नहीं गए पर कुछ सोनीपत गए व अन्य टिकरी बाॅर्डर पर ही रहे। टिकरी बाॅर्डर पर जिया लाल प्रवक्ता बीकेयू हरियाणा ने टिकरी बॉर्डर पर किसानों से कही कि हमें आंदोलन शांति पूर्वक चलाना है। किसानों ने कहा कि अब पूरा ध्यान दस नवंबर को केएमपी पर बंद लगाने को लेकर है। इसके लिए पंजाब से किसान आ रहे हैं। 10 मार्च को केएमपी जाम करेंगे इसके लिए मिलकर तैयारी करनी है। इसी सिलसिले में जसबीर कोर सुभा प्रधान पंजाब किसान यूनियन ने टिकरी बॉर्डर पर किसानों को समर्थन दिया। कहा कि हमारी लड़ाई सरकार से है। हमारी लड़ाई शांति से होनी चाहिए। कई आदमी यहां आकर भड़काऊ भाषण देते है हमें उस राह पर नहीं जाना। कोई भी भड़काऊ भाषण ना दे। हमें यहां पहरा देना चाहिए। हम सिख धर्म को मानने वाले है। कोई भी गलत काम करता है उसे हम सब को रोकना है वो भी शांति से। 10 मार्च को हम केएमपी को जाम करेंगे। हमें मोर्चे के अंदर किसानों की संख्या कम नही होने देनी। हमें जनता को अपने साथ लेना जरूरी है ताकि सरकार को हराया जा सके। हमें भी जनता के बीच जाकर तीन काले कानूनों के बारे में बताना चाहिए ताकि सबको पता चल सके। आने वाले दिनों में ज्यादा से ज्यादा संगठन किसानों के साथ आने वाले है।

मई के पहले या दूसरे सप्ताह में हाथाें पर रस्सी बांधकर दिल्ली कूच करेंगे किसान

किसानों ने कहा कि सारी दुनिया इस आंदोलन को देख रही है सभी एमएसपी मांग कर रहे है मोदी सरकार से इस काले कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे है हम इस आंदोलन में शांतिपूर्वक कर रहे है मोदी सरकार ने बैंकों को प्राइवेट कर रही है रेल, हवाई जहाज, बंदरगाह को बेच रही है मोदी सरकार का काम है कि देश मे बेरोजगारी फैलानी है देश को धर्म के नाम पर बांट रही है अब इनको धर्म के नाम पर वोट नही मिलेगी। किसान नेताओं ने हरियाणा और पंजाब के किसानों से आग्रह किया है कि मई के पहले या दूसरे सप्ताह में पैदल संसद का घेराव करेंगे जिसकी तारीख अभी तय नही की है हम सरकार को 26 जनवरी वाला मौका नही देंगे हम पैदल मार्च करेंगे हम अपने हाथों पर रस्सी बांधकर दिल्ली कूच करेंगे हम किसी को कुछ नही कहेंगे यह आंदोलन जारी रहेगा हम पीछे नही हटेंगे सरकार ने पहले भी गड़बड़ की थी जो अब भी आंदोलन में गड़बड़ करेगी। रितु आल इंडिया महिला संगठन दिल्ली ने टिकरी बॉर्डर पर किसानों को समर्थन दिया। कहा कि एक स्वतंत्र देश में अपने अधिकारों के लिए किसानों को धरना प्रदर्शन अपनी जान तक देनी पड़ रही है।

केएमपी जाम करने के लिए पंजाब से किसानों के जत्थे लगे जुटने

किसानों के जत्थे
किसानों के जत्थे

10 अप्रैल को केएमपी को 24 घंटे के लिए जाम करने के लिए सोमवार सुबह से ही पंजाब से आने वाली रेलगाडिय़ों से उतरने वाले किसानों की संख्या सोमवार को बढ़नी शुरू हो गई। एक साल के बाद आज सवारी रेलगाड़ियां भी चली तो उसमे दैनिक यात्रियों की संख्या न के बराबर थी पर पंजाब से आने वाले किसानों की संख्या अधिक रही। रेल अधिकारियों की माने तो सोमवार को करीब दो से ढाई हजार किसान बहादुरगढ़ स्टेशन पर उतरे हैं। अब अधिकतर किसान रेल के द्वारा ही बहादुरगढ़ पहुंच रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ टिकरी बॉर्डर पर आज पहले जैसी रौनक नहीं थी। इसके पीछे कारण था कि बहादुरगढ़ के किसानों ने झज्जर के एफसीआई के गोदाम में पहुंचकर वहां धरना दिया। इस कारण वाहनों की व्यवस्था भी की गई थी बहादुरगढ़ स्टेशन पर पहुंचे किसान सीधे पहले झज्जर एफसीआई गोदाम पर पहुंचे व वहां से वापस बहादुरगढ़ अपने-अपने शिविरों में पहुंचकर ही आराम किया।

सीआपीएफ के जवान गश्त करते दिखे

दोपहर तक पंजाब से आने वाले किसानों का सिलसिला इस कदर हावी था कि दैनिक यात्रियों के प्लेटफार्म पर होने व नहीं होने का कोई पता नहीं चल पा रहा था। टिकरी बॉर्डर पर भी किसानों की संख्या कम होने पर सेक्टर नौ के पास खाली सड़कों पर सीआरपीएफ के जवान ही गश्त करते दिखाई दिए। हरियाणा संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष विकास सीसर ने कहा कि 10 अप्रैल को किसान सुबह 11 बजे केएमपी को बंद करेंगे। जोकि 11 अप्रैल सुबह 11 बजे तक जारी रहेगा। 24 घंटे के लिए किसानों का यह जाम रहेगा। 13 अप्रैल को बैसाखी का पर्व दिल्ली के सभी बॉर्डरों पर मनाया जाएगा। 14 अप्रैल को डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती पर संविधान बचाओ दिवस मनाया जाएगा। एक मई को दिल्ली के बॉर्डरों पर मजदूर दिवस मनाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें